class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड में भाजपा से चूक हुई : जोशी

पूर्व केन्द्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी ने स्वीकार किया कि झारखंड में भाजपा से चूक हुई है। जनता की नब्ज टटोलने से लेकर नेताओं के तेवर समझने तक में हमसे भूल हुई है। अब सरकार बनाने के लिये बन रही रणनीति पर हमारी पूरी नजर है। इस मुतल्लिक कोई भी फैसला लेने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गड़करी को अधिकृत कर दिया गया है।

पार्टी कार्यालय में गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कोपेनहेगन से लेकर झारखंड तक की चर्चा की। उन्होंने कहा कि, झारखंड में हमें जो उम्मीद थी जनता ने उसे पूरा नहीं किया है। इसका मतलब है कि हम जनता का मूड भांप नहीं सके।

भाजपा को यह नहीं लगा कि सोरेन इतना बड़ा मुद्दा बन जाएंगे। यशवंत सिन्हा को मुख्यमंत्री घोषित करने से जुड़े एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इससे कुछ नहीं होता है। सामूहिक नेतृत्व में पार्टी चुनाव लड़ी यह सही है।

उन्होंने कहा कि कोपेनहेगन सम्मेलन में हुआ समझौता बाध्यकारी नहीं है बावजूद यह देश की संप्रभुता पर खतरा है। भारत को प्र्यावरण प्रदूषण का खामियाजा भुगतने वाले देशों का नेतृत्व करना चाहिए। उसे अपनी एक पर्यावरण नीति और समान विचारधारा वाले देशों से मिलकर एक नई वैश्विक अर्थव्यवस्था बनाने की भी पहल करनी चाहिए।

धनी देश चाहते हैं कि विकासशील देशों को उत्सजर्न नहीं करने के लिए बाध्य किया जाए और उन्हें इसकी पूरी छूट मिले। चूंकि इस मामले पर हम पूरी तरह तैयारी कर गये थे। लिहाजा उन देशों की एक नहीं चली। लेकिन जो समझौता हुआ उसके अनुसार अमेरिका को यह अधिकार है कि वह हमारे कार्यो की समीक्षा कर सकता है।

यह देश के लिए खतरनाक है। राष्ट्राध्यक्षों के बीच हुए समझौते में हम शामिल नहीं थे लिहाजा इसका विरोध नहीं कर सके। लेकिन समझौते के बाद कोपनेहेगन में ही हमने अपना विरोध दर्ज करा दिया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंड में भाजपा से चूक हुई : जोशी