class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार ने ओएनजीसी, सेल, एनटीपीसी को दिया महारत्न का दर्जा

सरकार ने ओएनजीसी, सेल, एनटीपीसी को दिया महारत्न का दर्जा

सरकार द्वारा गुरुवार को ओएनजीसी, सेल और एनटीपीसी जैसे बड़े सरकारी उपक्रमों को महारत्न का दर्जा दिए जाने के बाद अब इनके पास ज्यादा वित्तीय और परिचालन संबंधी स्वायत्ता होगी जिससे इन्हें वैश्विक स्तर की प्रमुख कंपनी बनने में मदद मिलेगी।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडलीय बैठक में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले सरकारी उपक्रमों को महारत्न का नाम देने का फैसला किया गया।

सूचना और प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने बैठक के बाद कहा, महारत्न योजना का मुख्य मकसद है बड़े सरकारी उपक्रमों को शक्ति प्रदान करना ताकि वे अपने परिचालन का विस्तार कर सकें और वैश्विक स्तर की प्रमुख कंपनियां बन सकें।

अठारह नवरत्न कंपनियों में से सेल, ओएनजीसी और एनटीपीसी सरकार द्वारा तय महारत्न की कसौटी पूरी करती है। महारत्न का दर्जा हासिल करने के लिए कंपनी का पिछले तीन साल में सालाना शुरू मुनाफा 5,000 करोड़ रुपये होना जरूरी है। इसके अलावा कंपनी का निवल मूल्य 15,000 करोड़ रुपये और कारोबार 25,000 करोड़ रुपये का होना आवश्यक है। इसके अलावा यह कंपनी को शेयर बाजारों में सूचीबद्ध भी होना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकार ने ओएनजीसी, सेल, एनटीपीसी को दिया महारत्न का दर्जा