अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गागलहेडी चीनी मिल को नोटिस जारी

गन्ना संकट के बाद भी दया शुगर मिल गागलहेडी में कर्मचारियों ओर प्रबंधनतंत्र का विवाद बढ़ने के कारण चीनी मिल चार दिन से बंद पड़ी है। इससे किसानों के सामने अपने गन्ने को लेकर संकट पनप गया है। सचिव गन्ना समिति सहारनपुर और बेहट ने चीनी मिल के जीएम को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

सयुक्त गन्ना आयुक्त आरएल उपाध्याय का कहना है कि, यदि नोटिस का जवाब जल्द नहीं मिलता तो दूसरे चीनी मिलों को गन्ना आंवटन कर दिया जाएगा। दूसरी ओर किसानों का कहना है कि, यदि जल्द ही समस्या का समाधान नहीं निकला तो किसान सड़कों पर उतरकर चीनी मिल के खिलाफ मोर्चा खोलेगे।

गन्ना आंदोलन के बाद के देरी से चली चीनी मिले इस समय गन्ना संकट से पार नहीं पा रही है। लेकिन दया चीनी मिल गागलहेडी में बहार निकाले गए सात कर्मचारियों को लेकर विवाद पनप गया। चीनी मिल के प्रबंधक ने कर्मचारियों के विरोध करने पर चीनी मिल में गन्ने की खरीद बंद कर दी।

गन्ने की कमी के कारण चीनी मिल की चिमनियां भी ठंडी हो गई। लगातार विवाद को चार दिन बीतने के बाद भी कोई समाधान नहीं निकल पा रहा है। इसी के चलते किसानों को अपने खेतों में खडे़ गन्नों की चिंता सताने लगी है।

हालाकि गन्ने की खरीदारी को उक्त क्षेत्र में भी गन्ना माफियाओं ने अपने पैर पसारने शुरु कर दिए है। किसानों की समस्या को देखते हुए डीएम ने भी चीनी मिल के जीएम से वार्ता कर चीनी मिल को चलाने का आदेश दिया। इसके बाद भी चीनी मिल के नहीं चलने के कारण किसान सहकारी समिति सहारनपुर और बेहट के सचिव ने उक्त चीनी मिल के जीएम को नोटिस पहुंचा दिया है।

साथ ही नोटिस पर शाम तक जवाब मांगा गया है। सयुक्त गन्ना आयुक्त आरएल उपाध्याय का कहना है कि, यदि चीनी मिल गुरुवार तक नहीं चला तो उसका गन्ना दूसरे चीनी मिलों को आंवटन कर दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गागलहेडी चीनी मिल को नोटिस जारी