DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

17 से 18 हुआ झामुमो, संथालपरगना में लहरा परचम


संथालपरगना में झामुमो का परचम लहरा है। कांग्रेस से अलग होकर चुनाव लड़ने का फैसला लेने के बाद झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन ने संथालपरगना में एड़ी- चोटी का जोर लगाया था।

चुनाव परिणाम पर गौर करें, तो संथालपरगना की कुल 18 सीटों में 10 पर झामुमो ने कब्जा जमा लिया है। 2005 के चुनाव में संथालपरगना में झामुमो ने 18 में 5 सीटें जीती थी। लेकिन इस बार मोरचा का इस इलाके में परचम लहरा है।

शिबू सोरेन के बेटे हेमंत सोरेन दुमका से तथा पुत्रवधु सीता सोरेन जामा से चुनाव जीत गए हैं। हेमंत ने 2005 में स्टीफन मरांडी से हार का बदला भी चुका लिया है। हेमंत अभी राज्य सभा के सदस्य हैं। 2005 में जामा सीट भाजपा ने दुर्गा सोरेन से जीती थी। इस बार झामुमो ने इस सीट को फतह कर लिया।

यूं कहें संथालपरगना इस बार झामुमो को दम दे गया। कोल्हान में झामुमो को मामूली झटका मिला है। लेकिन यहां बहरागोड़ा की सीट झामुमो ने भाजपा तथा घाटशिला की सीट कांग्रेस से छीन ली है।

2005 के चुनाव में झामुमो को संथालपरगना से पांच सीटें हासिल हुई थी। वैसे झामुमो को कोयलांचल में झटका भी लगा है। कब्जे की छह सीटें झामुमो के हाथ से निकल गई। इनमें चंदनकियारी, गिरिडीह, गांडेय, गुमला, इचागढ़, चक्रधरपुर, मंझगांव, जुगसलाई शामिल हैं। नई सीटों में मांडू, तोरपा, चाईबासा सीटें झामुमो ने जीती है। झामुमो विधायक दल के नेता रहे चंपई सोरेन सीट बचाने में सफल रहे हैं।

पूर्व सांसद और चुनाव जीतने वाले टेकलाल महतो मांडू से पहले भी चार बार चुनाव जीते हैं। इसी तरह 2009 में लोकसभा चुनाव हारे हेमलाल मुमरू ने बरहेट सीट पर 20 हजार से अधिक वोटों की धमाकेदार जीत दर्ज की है।

2000 में हेमलाल ने बरहेट से चुनाव जीता था। इसी तरह बोरियो से लोबिन हेंब्रम पहले तीन बार चुनाव जीते हैं। लोबिन पहले भी बोरियो से चुनाव जीते हैं। शिकारीपाड़ा से नलिन सोरेन ने लगातार पांचवी बार जीत दर्ज की है। सरायकेला से चंपई सोरेन ने चौथी बार चुनाव जीता है।

टुंडी से मथुरा महतो तथा डुमरी में जगरनाथ महतो सीट बचाने में सफल रहे हैं। 2005 में दोनों पहली बार चुनाव जीते थे। मथुरा महतो ने सबा अहमद तथा जगरनाथ महतो ने इस बार भी लालचंद महतो को हराया है।  हाजी हुसैन अंसारी ने मधुपुर तथा शशांक शेखर भोक्ता ने सारठ सीट पर हार का बदला चुका लिया है। 

सीटें जिस पर कब्जा जमाया

पाकुड़, बरहेट, बोरियो, चाईबासा, बहरागोड़ा, घाटशिला, तोरपा, दुमका, जामा, लिट्टापाड़ा, मधुपुर, पाकुड़, मांडू, सरायकेला, शिकारीपाड़ा, टुंडी, डुमरी, सारठ कब्जे वाली सीटें जो हाथ से निकली मंझगांव, चक्रधरपुर, चंदनकियारी, जुगसलाई, इचागढ़, गुमला, गिरिडीह, गांडेय कांग्रेस के

दिग्गजों को पटका

घाटशिला में प्रदीप बलमुचू कोपाकुड़ में आलमगीर आलम कोदुमका में स्टीफन मरांडी को जामताड़ा में फुरकान अंसारी को।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:17 से 18 हुआ झामुमो, संथालपरगना में लहरा परचम