DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पराये दर्द को भी देख रो पड़ते हैं कई दिल

पराये दर्द को भी देख रो पड़ते हैं कई दिल

सभी तो नही लेकिन हां, कुछ लोग ऐसे जरूर होते हैं जो दूसरों के दर्द को उनकी पीड़ा को सचमुच महसूस करते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि उनमें दूसरों का दर्द देख शारीरिक पीड़ा होती है।

ब्रिटेन के शीर्ष अखबार 'द डेली टेलीग्राफ' की खबर में बताया गया है कि बरमिंघम विश्वविद्यालय ने अपने एक अध्ययन में पाया है कि तीन में से एक व्यक्ति को दूसरों का दुख देख शारीरिक कष्ट होता है।
 
इस अध्ययन को अंजाम देने के लिए शोधकर्ताओं ने एक परीक्षण किया। उन्होंने विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले 123 छात्रों को आमंत्रित किया। उन्हें रोगियों की तस्वीरें और उनसे जुड़े वीडियो क्लिप दिखाए गए। छात्रों को स्पोर्ट्स स्टारों की दर्द भरी तस्वीरें भी दिखाई गईं।

उन तस्वीरों में से एक में एक फुटबॉलर की टांग टूटी थी तो एक टेनिस खिलाड़ी का बायां टखना जख्मी हो गया था, वहीं एक रोगी अपने हाथ में इंजेक्शन ले रहा था। सभी छात्रों ने बताया कि कम से कम एक तस्वीर को देखकर उनकी संवेदना जाग उठी और वे भावुक हो गए। कुछ दुखी हुए तो कुछ डर भी गए।

एक श्रेणी ऐसी भी थी जिसने कहा कि उन्हें इन तस्वीरों को देखते वक्त शारीरिक पीड़ा का अनुभव हुआ। अध्ययन में बताया गया कि इन छात्रों ने झनझनाहट या दर्द का अनुभव किया। इस श्रेणी में से कुछ ने तो गहरी पीड़ा का सामना किया। दर्द कुछ सेकेंड से लेकर देर तक हुआ।

शोधकर्ताओं के अनुसार टूटी टांगों से दौड़ते एक एथलीट की तस्वीर को देखकर अधिकतर छात्रों ने शारीरिक पीड़ा का एहसास किया। शोधकर्ताओं ने इन अतिसंवेदनशील छात्रों में से दस को चुनकर उन पर दोबारा परीक्षण किया और उनके ब्रेन का एमआरआई किया।

एमआरआई की तुलना उन 10 छात्रों के एमआरआई से की गई जिन्हें उन तस्वीरों को देख कुछ एहसास नहीं हुआ था। शोधकर्ताओं ने पाया कि दोनों श्रेणी के लोगों के मस्तिष्क में तस्वीरों को देखकर हलचल हुई। हालांकि जिन्होंने शारीरिक कष्ट का अनुभव किया था, उनके ब्रेन के उस हिस्से में ज्यादा क्रियाएं हुईं जो पीड़ा को संचालित करता है। इससे मालूम चला कि उनकी उत्तेजना जायज थी। इस शोध को पेन जर्नल के ताजातरीन अंक में प्रकाशित किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पराये दर्द को भी देख रो पड़ते हैं कई दिल