अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रपति ने की 'आईएनएस विराट' की सवारी

राष्ट्रपति ने की 'आईएनएस विराट' की सवारी

भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमान सुखोई में उड़ान भरने वाली पहली महिला बनने के बाद राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल बुधवार को देश के एकमात्र विमानवाहक जहाज आईएनएस विराट पर सवार हुई।

भारतीय सशस्त्र बलों के सर्वोच्च कमाण्डर ने इस अवसर पर भारतीय नौसेना और भारतीय जलक्षेत्र के अन्य साझीदारों की 26/11 तरह के हमले की पुनरावत्ति रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए सराहना की।

74 वर्षीय पाटिल ने युद्धपोत में तकरीबन तीन घंटे बिताने के वहां मौजूद नौसैनिक कर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि नौसेना और अन्य ऐसे हमलों की पुनरावृत्ति रोकने के लिए उत्कृष्ठ परिचालन प्रक्रिया अपना रहे हैं। नीली साड़ी और नौसेना की टोपी पहनी राष्ट्रपति ने कहा कि मुंबई पर पिछले साल हुआ आतंकी हमला उस नुकसान की वीभत्स याद दिलाता है कि जो भारत में समुद्री मार्ग का इस्तेमाल करने वाले तत्व पहुंचा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि हमारी समुद्री सीमाओं की रक्षा करने तथा व्यापार एवं अन्य गतिविधियों के लिए शांतिपूर्ण माहौल मुहैया कराने के लिए देश ने हमारे समुद्री बलों की क्षमता में पूर्ण विश्वास जताया है।

इससे पूर्व आईएनएस विराट में आने पर राष्ट्रपति ने परेड का निरीक्षण किया तथा नौसेना के युद्धपोतों और पनडुब्बियों के स्टीम पास्ट और सी किंग हेलीकाप्टरों और सी हेरियर विमान की फ्लाई पास्ट की साक्षी बनी। प्रतिभा 25 नवम्बर को पुणे के लोहेगांव वायु ठिकाने से भारतीय वायु सेना के सुखोई एसयू 30 जेट में उडान भरने वाली पहली महिला बनी थीं।

पाटिल ने कहा कि हिंद महासागर क्षेत्र में भारतीय वायुसेना की बहुआयामी जिम्मेदारियां देश की खुशहाली के लिए महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें तटवर्ती सुरक्षा बढाने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी है। राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार 21वीं सदी की बदलती जरूरतों के अनुसार भारतीय नौसेना के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया के प्रति प्रतिबद्ध है।

बैलास्टिक मिसाइल से लैस भारत की पहली पनडुब्बी आईएनएस अरिहन्त के बारे में उन्होंने कहा कि जुलाई में इस युद्धपोत का जलावतरण क्षेत्र में शक्ति के समान संतुलन के लिए एक ऐतिहासिक कदम है। उन्होंने कहा कि नौसेना की योजना अरिहन्त को दो साल में नौसेना में शामिल करने की है।

राष्ट्रपति ने कहा कि मुझे जानकारी दी गई है कि कई नए जहाजों, पनडुब्बियों और विमानों के निर्माण एवं उन्हें हासिल करने की परियोजनाएं पूरी होने के विभिन्न चरणों में है जिसके बाद भारतीय नौसेना अधिक ताकतवर बल के रूप में सामने आएगी।

राष्ट्रपति ने तट की सुरक्षा के लिए सीआईएसएफ मेरीन पुलिस तथा अन्य को प्रशिक्षण देने के लिए नौसेना की सराहना की। उन्होंने कहा कि नौसेना ने हमेशा प्रत्येक स्थिति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है चाहे वह सुनामी और तूफान नरगिस के बाद मानवीय सहायता के रूप में हो अथवा लेबनान से कर्मियों को सुरक्षित लाने की चुनौती हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राष्ट्रपति ने की 'आईएनएस विराट' की सवारी