DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चार शीर्ष सैन्य अफसरों पर कार्रवाई की सिफारिश

चार शीर्ष सैन्य अफसरों पर कार्रवाई की सिफारिश

एक ताजा घटनाक्रम में दाजिर्लिंग भूमि घोटाले मामले में जनरल रैंक के चार अधिकारियों को अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है। यह कार्रवाई मामले की जांच का आदेश देने वाले शीर्ष अधिकारियों में से एक की सिफारिश पर हो सकती है।

मिलिट्री सेक्रेटरी लेफ्टिनेंट जनरल अवधेश प्रकाश, डिप्टी चीफ ऑफ आर्मी चीफ लेफ्टिनेंट जनरल पी.के.रथ, लेफ्टिनेंट जनरल रमेश हलगली और मेजर जनरल पी. सेन पर आरोप है कि उनके द्वारा दिए गए अनापत्ति प्रमाण पत्र के आधार पर सुखना मिलिट्री स्टेशन से सटी सार्वजनिक भूमि को एक निजी ट्रस्ट को बेच दिया गया।

माना जा रहा है कि मामले की जांच कराने वाले पूर्वी सैन्य कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वी.के. सिंह ने चारों जनरलों के खिलाफ कार्रवाई के लिए सेना प्रमुख जनरल दीपक कपूर के पास अपनी सिफारिश भेज दी है।
उधर, सेना के प्रवक्ता ने इस मसले पर कुछ भी टिप्पणी करने से इनकार किया है। वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि वह भी इस मुद्दे पर आधिकारिक रूप से कुछ कहने की स्थिति में नहीं है।

गौरतलब है कि कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी की अध्यक्षता करने वाले तेजपुर स्थित 4 कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल के.टी. परनाइक ने निजी ट्रस्ट को अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी करने में चारों अधिकारियों की भूमिका को अनुचित पाया था। ट्रस्ट ने जमीन पर अजमेर स्थित प्रतिष्ठित मेयो कॉलेज से संबद्ध शिक्षण संस्थान खोलने का झूठा प्रस्ताव दिया था।

दाजिर्लिंग भूमि विवाद के सामने आने के बाद रक्षा मंत्री ए.के. एंटनी ने मामले की जांच के आदेश दिए थे। साथ ही कई मौके पर वह यह चुके हैं कि यदि आरोप सही पाए गए तो सेना के वरिष्ठ अधिकारियों को भी नहीं बख्शा जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चार शीर्ष सैन्य अफसरों पर कार्रवाई की सिफारिश