class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहाड़ को पहचान दिलाएगा विवि

हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विवि अब प्रदेश की सांस्कृतिक विरासत को बचाने एवं उसे दुनियाभर में नई पहचान दिलाने के लिए नये सिरे से कार्य शुरू करेगा। इसके लिए विवि अनेक राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय एजेसियों से मदद लेकर विवि के लोक कला केंद्र को अंतर्राष्टीय स्तर का बनायेगा। साथ ही स्थानीय युवाओं को संस्कृति से जोड़कर उन्हें रोजगार के नये अवसर भी उपलब्ध कराये जाएंगे। 

हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विवि अब यहां अध्ययनरत छात्र-छात्रओं को गुणवत्तापरक शिक्षा मुहैया कराने के साथ ही गढ़वाली संस्कृति के सरंक्षण एवं उसके प्रसार के लिए भी विशेष प्रयास करेगा। इसके तहत पहाड़ की विलुप्त हो रही अनेक पंरपराओं एवं लोक कलाओं पर कार्य किया जायेगा और इन्हें देश और दुनिया में नई पहचान दिलाई जायेगी।

स्थानीय युवाओं को भी संस्कृति एवं परंपराओं से जोड़ने के लिए इस क्षेत्र में नये शोध कार्यों को प्रोत्साहन दिया जायेगा। गढ़वाल विवि के कुलसचिव डा यूएस रावत ने बताया कि हिंदुस्तान के हर फोक पर कार्य हुए हैं किंतु पहाड़ी संस्कृति के क्षेत्र में एकल प्रयासों के बावजूद इस पर अभी कार्य नही हुए हैं।

उन्होंने कहा कि इसके लिए विवि के लोक संस्कृति एवं कला निष्पादन केंद्र को आधुनिक एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर का कला केंद्र बनाया जायेगा।

डा रावत ने बताया कि विवि इस क्षेत्र की प्राचीन पांडुलिपियों, मूर्तियों एवं लोक कलाओं को बचाने के लिए भारतीय संस्कृति विभाग के साथ ही लखनऊ स्थित नेशनल रिसर्च लेबोरेट्री फॉर कंजरवेशन ऑफ कल्चरल प्रोपटीज एवं कल्चर के क्षेत्र में कार्य कर रही अनेक अंतर्राष्ट्रीय ऐजेसियों की मदद लेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पहाड़ को पहचान दिलाएगा विवि