अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इनेला शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान

इनेलो ने निर्वाचन आयोग द्वारा हरियाणा विधान सभा की ऐलनाबाद सीट का उपचुनाव 20 जनवरी को कराने की घोषणा का स्वागत किया है। साथ ही दल ने पहली जनवरी से सदस्यता अभियान शुरू करने का भी ऐलान किया है जो 31 जनवरी तक चलेगा।

इनेलो प्रमुख व पूर्व मुख्य मन्त्री ओम प्रकाश चौटाला ने आयोग के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के खिलाफ लोगों की जनभावनाओं को देखते हुए यह बात साफ है कि ऐलनाबाद उपचुनाव में इनेलो प्रत्याशी भारी बहुमत से विजयी होंगे और जल्दी ही प्रदेश में इनेलो की सरकार बनेगी।

उन्होंने कहा कि बढ़ती महंगाई के कारण आमजन का जीना मुश्किल हो चुका है। उल्लेखनीय है कि गत विधान सभा चुनाव में ओम प्रकाश चौटाला ऐलनाबाद और उचाना कलां दोनों से जीते थे। बाद में उन्होंने ऐलनाबाद से इस्तीफा दे दिया था जिसके परिणामस्वरूप वहां उपचुनाव होने जा रहा है।

उपचुनाव के लिए घोषित तारीखों के अनुसार इसकी अधिसूचना 26 दिसम्बर को होगी और उस दिन से 2 जनवरी तक नामांकन भरे जाएंगे। चार जनवरी को नामांकन पत्रों की पड़ताल होगी और छह जनवरी तक नामांकन वापस लिए जाएंगे। ऐलनाबाद में 20 जनवरी को मतदान और 23 जनवरी को वोटों की गिनती होगी।

इनेलो का सदस्यता अभियान शुरू करने का फैसला राज्य कार्यकारिणी की आज यहां हुई बैठक में लिया गया। अभियान 1 से 31 जनवरी तक चलेगा। श्नी चौटाला की अध्यक्षता में हुई बैठक में सभी विधायकों, कार्यकारिणी सदस्यों, पदाधिकारियों, जिलाध्यक्षों, हलका व शहरी अध्यक्षों और विभिन्न प्रकोष्ठों के प्रदेश संयोजकों ने हिस्सा लिया।

पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, प्रधान महासचिव अजय सिंह चौटाला, पूर्व विधायक अभय सिंह चौटाला, पूर्व सांसद तारा सिंह, पूर्व कृषि मन्त्री जसविंदर सिंह संधू, डॉ. केसी बांगड़, पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत, पूर्व मन्त्री सुभाष गोयल, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा, विधायक कृष्ण पंवार व पूर्व मन्त्री मोहम्मद इलियास सहित पार्टी के सभी प्रमुख नेता भी मौजूद थे।

श्नी अरोड़ा ने निजी गन्ना मिल मालिकों द्वारा किसानों के शोषण पर चिन्ता प्रकट करते हुए राज्य सरकार की किसान व मजदूर विरोधी नीतियों की कड़े शब्दों में भर्त्सना की। उन्होंने कहा कि निजी मिल मालिकों, खासकर भादसो चीनी मिल को फायदा पहुंचाने के लिए जहां शाहबाद की सहकारी मिल को बन्द रखा गया है वहीं किसानों को पड़ोसी राज्यों में गन्ना ले जाने से रोका जा रहा है।

उन्होंने कहा कि आज जहां हरियाणा में किसानों को गन्ने का समर्थन मूल्य 175 रुपए क्विंटल मिलता है वहीं पड़ोसी राज्यों में गन्ना 275 से लेकर 300 रुपए प्रति क्विंटल बिक रहा है। उन्होंने हरियाणा में गन्ने का न्यूनतम समर्थन मूल्य 300 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किए जाने की मांग की।
बीएसएफ के जवान की मौत पर परिजनों ने उठाए सवाल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इनेला शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान