class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्रेडिट कार्ड लिमिट

आप छुट्टियों की प्लानिंग करने और अपनी आकस्मिक जरूरतों को पूरा करने के लिए क्रेडिट कार्ड पर निर्भर रहते हैं। ऐसे में एक बार अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट को फिर से जांच लें। अगर आपका फिर भी ये कहना है कि मुझे इसकी पूरी जानकारी है तो हो सकता है कि आप सही न हों। हाल में कुछ ऐसे मामले सुनने में आए जिनमें बैंकों ने क्रेडिट लिमिट में कटौती की है।

पेमेंट हिस्ट्री : क्रेडिट कार्ड लिमिट तय करने में आपकी क्रेडिट कार्ड हिस्ट्री की भूमिका काफी अहम होती है। क्रेडिट कार्ड का पेमेंट देर से करना या ओवरड्राफ्ट होना आपके लिए खतरे की घंटी हो सकता है। अगर बैंक ये महसूस करता है कि आप उसके ऐसे ग्राहक हैं जिनका क्रेडिट रिकॉर्ड बेहतर नहीं तो वह क्रेडिट कार्ड लिमिट को कम कर सकता है।

लोन : अकसर देखने में आता है कि लोग बिना किसी मकसद के लोन लेते हैं। ये आपकी क्रेडिट कार्ड हिस्ट्री पर बड़ा फर्क डालता है। बहुत ज्यादा लोन लेना ठीक नहीं होता। फाइनेंशियल प्लानर कहते हैं कि अगर किसी व्यक्ति की 60 प्रतिशत सेलेरी लोन चुकाने में जाती है तो इसका मतलब ये है कि वह डेंजर जोन में है।
भारी-भरकम वेतनमान वाले व्यक्ति के लिए तो एक माह में सेलेरी के 60 प्रतिशत हिस्से को चुका पाना मुमकिन होगा, लेकिन किसी आम व्यक्ति के लिए ये एक बड़ी मुश्किल साबित होता है। अगर आपने इतना ज्यादा लोन ले रखा है जिसे आप सहजता से चुका नहीं सकते, तो बैंक ये मान सकता है कि आपको बहुत ज्यादा क्रेडिट लिमिट देना एक जोखिम होगा। अगर आप क्रेडिट कार्ड नियमित इस्तेमाल नहीं करते तो भी बैंक आपकी लिमिट कम कर सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्रेडिट कार्ड लिमिट