अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पच्चीस साल बाद लगेगा गणवेशधारियों का जमावड़ा

राजधानी में 25 वर्षो बाद लगेगा गणवेशधारियों का जमावड़ा। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक बनने के बाद मोहन भागवत पहली बार राज्य के स्वयंसेवकों और नागरिकों को संबोधित करेंगे। वे 23 दिसम्बर को पटना पहुंच रहे हैं और तीन दिनों तक यहां रहकर विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। अंतिम दिन 25 दिसम्बर को गांधी मैदान में उनका नागरिक अभिनंदन होगा। उस दिन राज्यभर के 20 हजार स्वयंसेवक यहां पहुंचेंगे। गांधी मैदान में जिलों के लिए अलग-अलग टेंट लगाये जा रहे हैं जहां स्वयंसेवक ड्रेसअप होंगे। कार्यक्रम की सफलता के लिए एक नागरिक अभिनंदन समिति बनाई गई है।


क्षेत्र प्रचारक स्वांत रंजन और नागरिक अभिनंदन समिति के अध्यक्ष किशोर कुणाल ने बताया कि बिहार में 25 वर्षो के बाद ऐसा कार्यक्रम हो रहा है। बालासाहब देवरस के कार्यकाल में इस तरह का कार्यक्रम हुआ था। पहले दो दिनों का कार्यक्रम संघ कार्यालय विजय निकेतन में होगा। श्री भागवत पहले दिन साधु संतों के साथ बैठक करेंगे तो दूसरे दिन सामाजिक सद्भावना बैठक होगी। इसमें राज्य के सभी जातीय संगठन चलाने वाले प्रमुख शामिल होंगे।  तीसरे और अंतिम दिन मुख्य कार्यक्रम होगा। गांधी मैदान में सर संघ चालक प्रणाम के बाद  भागवत स्वयंसेवकों को संबोधित करेंगे। साथ ही स्वसेवक अपनी शरीरिक कला का प्रदर्शन करेंगे। संघ प्रमुख की औपचारिक बैठक में भाजपा नेताओं से मिलने का कोई कार्यक्रम तय नहीं है लेकिन समझा जाता है कि वे अपने इस महत्वपूर्ण दौरे में भाजपा की नब्ज जरूर टटोलेंगे। वैसे सूत्र बताते हैं कि गांधी मैदान के कार्यक्रम में भाजपा नेता भी भाग लेंगे। संवाददाता सम्मेलन में प्रांत प्रचारक अनिल ठाकुर, प्रकाश नारायण सिंह और डा. नरेन्द्र प्रसाद भी थे।


जानकारी के अनुसार स्वयंसेवकों के लिए भोजन की व्यवस्था बिक्रम प्रखंड के नागरिकों द्वारा की जा रही है। भाजपा नेताओं को निर्देश दिया गया है कि जो स्वयंसेवक नहीं होगा वह गणवेश धारण कर वहां नहीं जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पच्चीस साल बाद लगेगा गणवेशधारियों का जमावड़ा