अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनकाउंटर में गाजियाबाद पुलिस के दामन पर भी हैं छींटे

एनकाउंटर को लेकर पुलिस पर सवाल उठाया जाना नई बात नहीं हैं। हर बार एनकाउंटर के बाद पुलिस पर सवालिया निशान लगते ही रहते हैं। गाजियाबाद पुलिस का दामन भी इससे अछूता नहीं है। एनकाउंटर के बाद कई बार शहर में बवाल हुए हैं। कई मामलों में पुलिस की भूमिका को लेकर जांच भी हो रही है।

गजियाबाद में हुए वतन दौरालिया एनकाउंटर में धौलाना के तत्कालीन एसओ जितेंद्र कालरा पर फर्जी मुठभेड़ करने का आरोप लगा। इस संबंध में वतन के वकील पुलिस पर उसे कोर्ट में पेश करने की बात कहकर एनकाउंटर करने का आरोप लगाया। इस संबंध में मामला कोर्ट में विचाराधीन है। मार्च में इंदिरापुरम पुलिस के हाथों में मुठभेड़ में मारे गए फिरोज व रईस की मौत के बाद पब्ल्कि ने शहर में जबरदस्त बवाल काटा था। फर्जी मुठभेड़ का आरोप लगाते हुए नया बस अड्डा चौकी फूंक दी गई थी। पुलिसकर्मियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया। इस संबंध में भी पुलिस की भूमिका की जांच की जा रही है। विजयनगर में मुठभेड़ में मारे गए बम्हेटा के नीरज शर्मा के गांव वालों ने पुलिस पर फर्जी मुठभेड़ का आरोप लगाते हुए जमकर फसाद किया था। पुलिस को लोगों को कंट्रोल करने के लिए लाठीचार्ज व फायरिंग करनी पड़ी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एनकाउंटर में गाजियाबाद पुलिस के दामन पर भी हैं छींटे