DA Image
22 फरवरी, 2020|3:29|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दहेज हत्या के मामले में सात साल की कैद

दिल्ली उच्च न्यायालय ने दहेज हत्या के दोषी करार दिए गए एक शख्स को सात साल कैद की सजा सुनायी है । राजधानी के दक्षिणपुरी के रहने वाले संजय को उच्च न्यायालय ने अपनी पत्नी के साथ क्रूरता से पेश आने ,दहेज के लिए प्रताड़ित करने और आत्महत्या के लिए मजबूर किए जाने के मामले में दोषी पाया है । गौरतलब है कि करीब 15 साल पहले संजय की प्रताड़ना से तंग आकर उसकी पत्नी ने आत्महत्या कर ली थी।


न्यायमूर्ति राजीव शकधर ने कहा अभियोजन पक्ष की ओर से पेश किए गए सबूत साफ तौर पर इस बात की ओर इशारा करते हैं कि पीड़िता को प्रताड़ित किया गया और उसके साथ क्रूरता बरती गयी जो दहेज की मांग से जुड़ी थी। संजय को निचली अदालत की ओर से दोषी करार दिए जाने के फैसले को उचित करार देते हुए न्यायालय ने कहा कि उसे दोषी करार देकर और उसकी मां को बरी करार देकर अदालत ने कोई गलती नहीं की थी ।


गवाहों के बयान पर भरोसा करते हुए न्यायालय ने कहा गवाहों के बयान सुनने के बाद जो कुछ सामने आता है वह यह है कि पीड़िता को कम दहेज लाने के लिए प्रताड़ित किया गया और उससे दहेज की मांग नियमित तौर पर की जाती रही। क्रूरता के मसले पर न्यायालय ने कहा अपने परिजनों के सामने पीड़िता के बयान को सबूत के तौर पर स्वीकार करने के बाद ही उन्हें क्रूरता का मामला साबित करने में इस्तेमाल किया जा सकता है। गौरतलब है कि संजय और बेबी की शादी 15 फरवरी 1994 में हुई थी और शादी के बमुश्किल छह महीने के अंदर बेबी ने अपने ससुराल में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:दहेज हत्या के मामले में सात साल की कैद