class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा मनरेगा:माता प्रसाद

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं अरुणांचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल माता प्रसाद ने मंगलवार को कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी योजना (मनरेगा) उत्तर प्रदेश में पूरी तरह से भ्रष्टाचार को भेंट चढ़ गया है।
 

प्रसाद ने पत्रकारों से कहा कि केन्द्र सरकार ने चालू वित्तीय वर्ष के लिए पूरे देश में मनरेगा में 39 हजार एक सौ करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। जिसमें से 7380.14 करोड़ रुपए उत्तर प्रदेश को मिले हैं जबकि गत वर्ष यह धनराशि मात्र 4686 करोड़ रुपए थी।


पूर्व राज्यपाल ने कहा कि चालू वित्त वर्ष को नौ महीने बीतने चुके हैं और अभी तक इस योजना का साठ प्रतिशत धन भी खत्म नहीं किया गया, जिससे लगता है कि राज्य सरकार इस महत्वाकांक्षी योजना के क्रियान्वयन में रुचि नहीं ले रही है। मनरेगा में भ्रष्टाचार चरम पर है। राज्य में विकास के सारे कार्य ठप्प हो गए हैं केवल पार्क्‍ एवं मूर्तियों को लगाने तथा सजाने का काम हो रहा है। प्रदेश में किसानों के साथ अन्याय हो रहा है। धान खरीद केन्द्रों पर उन्हें ठगा जा रहा है।


प्रसाद ने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो गई है। आए दिन लूट, हत्या एवं बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं। एक प्रश्न के जबाव में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मायावती राज्य को बांटने का जो नाटक कर रही हैं वह मात्र धोखा है। यदि वह ईमानदार है तो पहले विधानसभा में प्रस्ताव लाकर पास कराना चाहिए फिर केन्द्र सरकार को भेजना चाहिए। पत्र लिखने से राज्यों का विभाजन या गठन नहीं होता है। मुख्यमंत्री को चाहिए कि पहले पूरे राज्य के विकास के लिए एक समान योजनाएं बनाए, न कि बंटवारा क्योंकि जनता बंटवारा नहीं विकास चाहती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा मनरेगा:माता प्रसाद