class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोपेनहेगन में 25 प्रतिशत उत्सर्जन कटौती की प्रतिबद्धता: रमेश

कोपेनहेगन में 25 प्रतिशत उत्सर्जन कटौती की प्रतिबद्धता: रमेश

सरकार ने कहा कि कोपेपहेगन शिखर सम्मेलन में भारत ने 2005 से 2020 की अवधि के बीच 20 से 25 प्रतिशत की उत्सर्जन कटौती करने की बात कही है जो स्वैच्छिक घरेलू प्रतिबद्धता होगी और किसी अंतरराष्ट्रीय करार का हिस्सा नहीं होगी।

राज्यसभा में 21 दिसंबर को वन एवं पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने कहा कि भारत के 2005 से 2020 की अवधि के बीच 20 से 25 प्रतिशत की उत्सर्जन कटौती की स्वैच्छिक घरेलू प्रतिबद्धता किसी अंतरराष्ट्रीय करार का हिस्सा नहीं होगी जिसमें उत्सर्जन की मात्रा या उत्सर्जन कटौती करने के संबंध में कोई बाध्यकारी लक्ष्य निर्धारित किए गए हों।

मंत्री ने कहा कि योजना आयोग से इस बात की जानकारी मिली है कि 1990 से 2005 के बीच उत्सर्जन की मात्रा में 17.06 प्रतिशत की कमी आई है। योजना आयोग ने यह निष्कर्ष भी दिया है कि 2005 से 2020 के बीच हम 20 से 25 प्रतिशत की उत्सर्जन कटौती कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कोपेनहेगन में 25 प्रतिशत उत्सर्जन कटौती की प्रतिबद्धता: रमेश