अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लेटलतीफी का खेल

ज्यादातर भारतीयों से पूछा जाए तो वे कहेंगे कि राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारियां वक्त पर पूरी हो जाएंगी, फिर भी कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन के अध्यक्ष माइक फेनेल का भरोसा जाहिर करना मायने रखता है। यह इसलिए कि कुछ महीनों पहले तमाम विदेशी आशंकित थे कि राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारियां कैसे पूरी होंगी। माइक फेनेल ने भी यह शंका जाहिर की थी और काफी बवाल हुआ था। लेकिन अब माइक फेनेल तकरीबन आश्वस्त हैं कि तैयारियां सही वक्त पर पूरी हो जाएंगी।

हमारे आत्मविश्वास और विदेशियों के अविश्वास की वजह यह है कि हम अपने तौर तरीके जानते हैं और बाहर के लोग ठीक से नहीं जानते। हालांकि शीला दीक्षित वैसे ही परेशान हैं जैसे आयोजन करने वाले शहर के मुख्यमंत्री को होना चाहिए। हम जानते हैं कि भारत में घरों में शादी-ब्याह हो या राष्ट्रमंडल खेल उनकी तैयारियां अराजक ढंग से और हड़बड़ी में आखरी क्षण तक चलती रहती हैं, लेकिन न किसी घर में तैयारी न होने से कोई शादी रुकी, न ही राष्ट्रमंडल खेल रुकेंगे। हमारी व्यावहारिक समस्याएं भी हैं।

अगर खेल करोड़-दो करोड़ की आबादी वाले देश में होते हैं और सौ करोड़ की आबादी वाले देश की एक करोड़ से ज्यादा आबादी वाली राजधानी में होते हैं तो दोनों की तैयारी में फर्क होता है। यहां तमाम विभाग हैं, तमाम खेल फेडरेशन हैं, कई स्वायत्त संस्थान हैं और इन सबके बीच तालमेल बनाना टेढ़ी खीर है। इसके बावजूद यह ध्यान रखना चाहिए कि इतने बड़े आयोजनों की तैयारी कहीं भी आखिर तक ही पूरी होती है। चीन में एकाधिकारवादी शासन है फिर भी ओलंपिक की तैयारी अंत तक चली, यही हाल एथेन्स का था और यही स्थिति मेलबर्न की रही।

इसका मतलब यह कतई नहीं कि सारे देशों का कामकाज इतना ही अराजक होता है, हम कुछ ज्यादा अराजक हैं, लेकिन शायद माइक फेनेल को भी अब यह समझ में आ रहा है कि हम आखिर तक जुटे रहेंगे लेकिन आयोजन ढंग से कर लेंगे। फिर भी राष्ट्रमंडल खेल कोई आखरी बड़ा आयोजन नहीं है जो हम कर रहे हैं, हमें उम्मीद है कि आने वाले वक्त में और भी बड़े आयाम के आयोजन भारत को करने होंगे। उनके मद्देनजर हमें अपने तौर तरीके कुछ सुधारने भी होंगे। महाशक्ति होना सिर्फ इस बात से तय नहीं होता कि हम क्या करते हैं, वह इससे भी तय होता है कि कोई काम हम कैसे करते हैं। हमें अपने तौर तरीके ऐसे करने होंगे कि बाहरी लोग हमें इज्जत से देखें, न कि हमारी काबिलियत पर शक करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लेटलतीफी का खेल