अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पर्सनैलिटी मैनेजमेंट करियर में कामयाबी का सबसे कारगर टूल

पुरानी कहावत है- ‘फर्स्ट इम्प्रेशन लास्ट इम्प्रेशन होता है।’ यह अब भी सच है। आज के प्रोफेशनल और कारपोरेट कल्चर की मांग है कि आप अपनी पर्सनैलिटी के विकास पर विशेष ध्यान दें, यह पहला इम्प्रेशन होता है। ‘हारवर्ड युनिवर्सिटी’ की स्टडी के अनुसार 85 प्रतिशत प्रोमोशन कम्युनिकेशन की योग्यता और एटीटयू पर निर्भर करता है।

क्या देखती है कंपनियां
पर्सनैलिटी डेवलपमेंट में पर्सनल कारपोरेट की अच्छी युति शामिल है। इससे पहला इम्प्रेशन बिल्कुल सही होता है। अच्छा-आत्मविश्वास नजर आता है और व्यवहारशीलता झलकती है। जो अवसर के अनुकूल होती है। हममें से सभी की हार्ड और सॉफ्ट दोनों प्रकार की योग्यताएं शामिल हैं। हार्ड योग्यताओं में क्वालिफिकेशन, टेक्निकल योग्यता, शामिल है जो जॉब प्राप्त करने के लिए जरूरी है। हार्ड योग्यता ज्यादा स्पष्ट होती है, रिज्यूमे में इसका जिक्र होता है क्योंकि इससे आपकी प्रोफेशनल क्षमता का पता चलता है।

लेकिन कॉलेज से डिग्री प्राप्त करने और टेक्निकल योग्यता प्राप्त करने के बाद एम्प्लॉयर सॉफ्ट स्किल पर नजर रखते हैं। सॉफ्ट स्किल अस्पष्ट होती है। साफ्ट स्किल का मतलब जैसे कम्युनिकेशन, टीमवर्क, बातचीत का ढंग, लीडरशिप की योग्यता आदि। हार्ड स्किल से सॉफ्टस्किल लगभग दूना मायने रखता है।

सॉफ्ट योग्यता है क्या?
इस तरह की योग्यता वास्तव में पीपुल स्किल है। अच्छी तरह से लोगों को अपनी बात कम्युनिकेट करना और कुछ नया करना होता है। ये इस तरह की योग्यता है जिन्हें स्वजागरूकता  से बढ़ाया जा सकता है और किसी भी सही दृष्टिकोण को ठीक ढंग से हैंडिल करना होता है। किसी बात को व्यक्तिगत रूप से नहीं लेना है, रिस्क लेना लोगों के साथ अच्छे संबंध बना कर रखना तथा ऊंचे स्तर पर लीडरशिप में स्टाइल, अपनी आंतरिक व्यक्तिगत योग्यताएं, प्रेजेंट करने की योग्यता, सुपरवाइज करने की योग्यता, समझाने की योग्यता आदि शामिल हैं। 

आपको निरतंर अपनी पर्सनैलिटी को विकसित करने की आवश्यकता है और अपनी सॉफ्ट योग्यताओं की प्रैक्टिस तब तक करते रहें जब तक कि वह आपका दूसरा स्वभाव न बन जाए। असफलता से न डरें। स्वाभाविक ढंग से और तनावमुक्त रहें। आप वह बनने की कोशिश न करें जो आप नहीं है। आप यदि उस तरह की मैनारिज्म की सहायता लेंगे, जो आपके स्वभाव में नहीं है तो आप सहज नहीं रह सकेंगे।

बॉडी लैंग्वेज को जांचें
आप की बॉडी लैंग्वेज आपके विषय में बहुत कुछ बता देती है। इसलिए आप अपने में आत्मविश्वास और दृढ़ता की झलक लाइए। आत्मविश्वास को प्रभावशाली बनाने के लिए कपड़े ठीक से पहनें, सुस्ती न दिखाएं, मुस्कुराते रहें, जब किसी से बात करें तब सतर्क रहें। कंपनियां ‘सॉफ्ट स्किल्स’ पर विशेष ध्यान देती है। कई कंपनियां तो ऐसे नये प्रोफेशनल्स को जिनमें सॉफ्ट स्किल्स की कमी देखती है ट्रेनिंग भी देती है।

तलाशें मजबूत और कमजोर पक्ष
‘सॉफ्ट स्किल्स’ प्राप्त करना इतना आसान नहीं है। कठिन मेहनत करनी पड़ती है एक दिन या एक सप्ताह में नहीं सीख सकते।  अत: आप अपनी पर्सनैलिटी का विकास किस तरह करेंगे? आप उन योग्यताओं की सूची बनाएं जिनकी आप में कमी है। आप में क्या कमी है यह अपने करीबी दोस्तों, सहकर्मियों आदि से भी जान-पूछ सकते हैं।

माहौल पर रखें नजर : आप लोगों के पास जाएं और इसमें दिलचस्पी दिखाएं कि आपके आसपास क्या हो रहा है जो आदमी स्थितियों से एडजस्ट कर लेता है वह सहज महसूस करता है।

इंटरनेट से सीखें : अपनी पर्सनैलिटी को बेहतर बनाने के लिए आप अपनी दिलचस्पी को बढ़ाएं। अधिक अध्ययन करें। इंटरनेट से आप बहुत कुछ सीख सकते हैं।

खुद को प्रस्तुत करें : अपने को प्रभावशाली ढंग से प्रेजेंट करना एक अच्छा तरीका हो सकता है, इसके लिए तैयारी और प्रैक्टिस चाहिए। कभी-कभी ऐसा होता है कि क्षमता, योग्यता और जानकारी होते हुए भी हम उसे प्रभावशाली ढंग से प्रेजेंट नहीं कर पाते। ऐसे में यदि हम सॉफ्ट योग्यताओं को विकसित कर लें तो हमें काफी फायदा हो सकता है। हम में आत्मविश्वास बढ़ सकता है। आत्म विश्वास भरी छवि दिखलाने के लिए जरूरी है कि आप खुद को अच्छा महसूस करें।

कारपोरेट सेक्टर में जरूरी : जब आप कारपोरेट सेक्टर में आगे बढ़ते जाते हैं, उस समय सॉफ्ट योग्यताएं, आप के लिए बहुत महत्वपूर्ण हो जाती हैं। आज की सर्विस में कम्युनिकेशन की योग्यताएं (बात करना और ध्यान से सुनना) और लोगों से डील करना हर प्रोफेशन के लिए जरूरी नहीं है। कंपनियां देखती हैं कि इस मापदंड में आप कितने सही ठहरते हैं।

टीम वर्क : कम्युनिकेशन की कुछ योग्यताएं ग्राह्यता, बिजनेस के तौर तरीके की प्रैक्टिस की जा सकती है। टीम वर्क की काबलियत भी कुछ समय के उपरांत प्राप्त की जा सकती है।

सहकर्मियों से संवाद में गैप न आएं : अपने सहकर्मियों के साथ निरंतर बातचीत करते रहें। गैप न आने दें। उनमें अलग-थलग न पड़ें। प्रोजेक्ट्रस के लिए स्वयंसेवक की तरह जुटकर  काम करें। सामाजिक कार्यो के लिए भी स्वयं सेवक की तरह प्रस्तुत करें। साथ ही आप महसूस करें कि यदि आप लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करते हैं और लोगों के साथ आप सही धारणा रखते हैं, मन लगाकर अपना काम करते हैं तो काफी सॉफ्ट योग्यताएं स्वयं आप में आ जाएंगी।

घूमता रहे तरक्की का पहिया
व्यक्तिगत विकास यानी पर्सनल डेवलपमेंट को लेकर आजकल लोगों में बड़ा क्रेज़ है। खासकर कॅरियर में नई ऊंचाइयां छूने के ख्वाहिशमंद लोग पर्सनल डेवलपमेंट का कोर्स करने पर कुछ ज्यादा ही जोर देते नज़र आ जाते हैं। लेकिन उनमें से बहुत ही कम लोग ये जानते हैं कि पर्सनल डेवलपमेंट का मतलब केवल ट्रेनिंग ज्वॉइन करना या फिर से पढ़ाई करना ही नहीं है। इसका गहरा और सही अर्थ है- अपने व्यक्तित्व की उन खामियों को ढूंढ निकालना, जिनकी अनदेखी करने पर आपको करियर में तरक्की का पहिया रुकने का खतरा या कोई और नुकसान उठाना पड़ सकता है। यही नहीं, इसके तहत आप स्वयं में मोटिवेशन लाकर अपने व्यक्तित्व को निखारने का लक्ष्य भी हासिल कर सकते हैं।

कैसे करें व्यक्तिगत विकास?
यहां हम कुछ ऐसे तरीके बता रहे हैं, जिन्हें अपनाने के लिए आपको अतिरिक्त समय भी नहीं लगाना पड़ेगा, और आप व्यक्तिगत विकास का अपना लक्ष्य भी हासिल कर लेंगे।

-स्वस्थ जीवनशैली विकसित करें। स्वस्थ शरीर और स्वस्थ मस्तिष्क, व्यक्तिगत विकास की सबसे अहम पूर्व-शर्त है। इसलिए खान-पान, व्यायाम और नींद के मामले में कोई कोताही न बरतें। अपने लुक्स पर भी पूरा ध्यान दें, और इसे परफैक्ट रखने के लिए समय ज़रूर निकालें। इससे आपको आत्मविश्वास और मोटिवेशन मिलेगा और व्यक्तित्व खिलेगा।

-समय और ऊर्जा को नष्ट करने वाले तत्वों से तौबा करें। हम अपने कार्यस्थल पर जो कुछ भी करते हैं, उसमें हमारी ऊर्जा और समय दोनों खर्च होते हैं। फालतू कामों में बेशकीमती शक्ति बर्बाद न करें। तय करें कि जो काम करें, सार्थक हो। निरुद्देश्य नेट सर्फिग, गपबाज़ी जैसी आदतें न पालें। डेस्क पर फालतू कागज और पेंडिंग काम न छोड़ें। कंप्यूटर फाइल्स और इन-बॉक्स की नियमित सफाई करते रहें।

-सकारात्मक सोच रखते हुए हर मसले को मुसीबत बनने से पहले ही सुलझा लें। प्रेरक साहित्य पढ़ें। हर काम की प्लानिंग और उसके लिए पूरा होमवर्क करें। मन पर बोझ न डालें।

-नए हुनर सीखें। फुरसत का सवरेत्तम उपयोग करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पर्सनैलिटी मैनेजमेंट करियर में कामयाबी का सबसे कारगर टूल