class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो भाइयों को फाँसी की सजा, छह को उम्रकैद

पड़ोसी पूर्व प्रधान की हत्या में आरोपित दो भाइयों को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने फाँसी की सजा सुनाई है। इस मामले में अन्य छह को उम्रकैद की सजा दी गई है। सभी आरोपितों पर 28-28 हजार रुपए अर्थदण्ड भी लगाया गया है।

मामला यमुनापार के कोराँव थाना के आव छापर का है। इसमें पूर्व प्रधान की बिना सिर-पैर की लाश मिली थी।
फास्ट ट्रैक कोर्ट के न्यायाधीश डीपीएन सिंह ने सोमवार को कहा कि आरोपित-प्रभाकर सिंह व कमलाकर सिंह को हत्या के अपराध में मृत्युदण्ड की सजा सुनाई।

अदालत ने इस मामले में देवशरण सिंह, राम नारायण सिंह, राजनारायण सिंह, नरेन्द्र प्रताप सिंह, दिवाकर सिंह व राजबहादुर सिंह को उम्रकैद तथा बीस-बीस हजार रुपए अर्थदण्ड की सजा दी है। अदालत ने सभी आरोपितों को हत्या के सबूत मिटाने के अपराध में पाँच-पाँच वर्ष की कैद तथा पाँच हजार रुपए अर्थदण्ड की सजा भी दी है।

थाना कोराँव में दर्ज मुकदमे के अनुसार छापर गाँव के राजकुमार तिवारी के भाई पूर्व प्रधान कौशल किशोर तिवारी वृद्धा पेंशन लेकर तहसील से 13 दिसम्बर 02 को नहीं लौटे तो गुमशुदगी दर्ज कराई गई। 19 दिसम्बर 02 को पुन: सूचना थाने पर दी गई तो जाँच शुरू की गई।

हनुमानगंज में लक्ष्मी नारायण तिवारी के खेत में खून दिखाई पड़ा तो उसी के सहारे तलाश शुरू की गई। 21 दिसम्बर 02 को गोरमा नदी गउघाट (थाना साहपुर जिला रीवा) में बोरे में बँधी सिरकटी लाश मिली। लाश के पैर भी कटे थे।

कपड़ों से उसकी पहचान की जा सकी। इस मामले में 24 दिसम्बर को एफआईआर दर्ज हुई और 15 जनवरी 03 को अभियुक्तों को पुलिस ने रिमाण्ड पर लेकर हत्या में प्रयोग हुआ गड़ासा, चाकू हथौड़ा तथा बोरा बरामद किया। अदालत में 12 गवाह पेश हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो भाइयों को फाँसी की सजा, छह को उम्रकैद