DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश विभाजन की मांग पर ट्रेन रोकी, कलक्ट्रेट में धरना व क्रमिक भूख हड़ताल शुरु

विश्व दलित परिषद ने प्रदेश के विभाजन की मांग को लेकर सांकेतिक रूप से गढ़वाल एक्सप्रेस ट्रेन रोकी। अपनी मांगों को लेकर उन्होंने कलक्ट्रेट में अनिश्चित कालीन धरना तथा क्रमिक भूख हड़ताल शुरु कर दी है। धरने पर बैठे लोगों ने प्रदेश में दलितों पर हो रहे अत्याचार पर रोक लगाने की मांग की है।

सोमवार को विश्व दलित परिषद के कार्यकर्ता कलक्ट्रेट पहुंचे और धरना देकर बैठ गए। धरने को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर ने उत्तर प्रदेश को अपनी पुस्तक में तीन अलग-अलग राज्यों में विभाजित करने का सुझाव दिया था।

उस समय भी कांग्रेस ने इसका विरोध किया था और तब कांग्रेस व केंद्र सरकार बाबा साहेब के सुझाव की अनदेखी करती चली आ रही है। उन्होंने कहा कि जिले के दलित, मजदूर, गरीब, पिछड़े, अल्पसंख्यक विश्व दलित परिषद के नेतृत्व में जिला मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन तथा भूख हड़ताल करते रहेंगे जब तब मुख्यमंत्री विधान सभा में उप्र को तीन राज्यों में बांटने का प्रस्ताव कराकर केंद्र सरकार को नहीं भेजती।

वक्ताओं ने दैनिक मजदूरी कम से कम 200 रुपए करने की मांग की। इसके साथ ही प्रदेश में हो रहे दलितों पर अत्याचार को रोकने की मांग की। इस संबंध में मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन एडीएम को दिया गया। शाम को लगभग पांच बजे सभी कार्यकर्ता रेलवे स्टेशन पर पहुंचे।

नजीबाबाद की ओर से आने वाली गढ़वाल एक्सप्रेस ट्रेन जैसे ही स्टेशन पर आकर रुकी तो सभी उसके ईंजन पर चढ़ गए। सांकेतिक रूप से ट्रेन रोककर उन्होंने अपना विरोध जताया। लगभग दस मिनट तक सभी कार्यकर्ता ट्रेन के इंजन पर चढ़े रहे। इसके बाद स्वयं ही उतरकर चले गए।

धरने व भूख हड़ताल पर विदप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष भूपेंद्र पाल सिंह, हरमेंद्र कुमार, बेगराज सिंह, ओमप्रकाश दाहिया, रामकुमार, डॉ. बेगराज सिंह, ब्रrापाल सिंह, जोगेंद्र सिंह, वृक्षपाल सिंह, कृपाल सिंह, राहुल कुमार, शिव कुमार, दीपक कुमार, रामकुमार सिंह, पवन कुमार, इरफान खां, धर्मवीर सिंह आदि बैठे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रदेश विभाजन की मांग पर ट्रेन रोकी