class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर चला राहुल का जादू, इंतजार में गाँव के लोग उनसे मिलने को डटे रहे

सोमवार को दो घंटे विलम्ब से पहुँचे राहुल गांधी की घिसौली यात्रा पूरी तरह व्यक्तिगत रही। कांग्रेस का कोई बड़ा नेता उनके आसपास नहीं फटक सका। राहुल हवाईअड्डे से सीधे सड़क मार्ग द्वारा घिसौली गाँव पहुँचे और वहाँ के किसान सेवा केन्द्र में पहले से तय कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

इस दौरान कार्यक्रम स्थल के चारों तरफ एसपीजी का तगड़ा घेरा रहा। घिसौली में ‘युवराज’ के इंतजार में बच्चों-बूढ़े और जवान हर कोई पलकें बिछाए रहा और एक साल पहले इसी घिसौली गाँव में चला राहुल गांधी का जादू मानो फिर ताजा हो गया। 

घिसौली गाँव में सोमवार कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और सांसद राहुल गाधी को राजीव गांधी विकास फाउंडेशन के कार्यक्रम में हिस्सा लेना था। पहले से ही तय था कि राहुल के इस कार्यक्रम को किसी भी तरह की सियासी गतिविधि से दूर रखा जाएगा। लिहाजा हाल के दिनों में कानपुर एपीसोड को लेकर कांग्रेसी पहले से सतर्क  थे।

यही कारण था कि पहले से तय डेढ़ बजे के स्थान पर राहुल सेना के ग्वालियर रोड स्थित हवाई पट्टी पर करीब 3 बजे उतरे। यहाँ एसपीजी के मूवमेंट के बाद 3.19 बजे राहुल सड़क मार्ग से होते हुए शाम लगभग 4.20 बजे घिसौली गाँव के पाइप लाइन चौराहा स्थित किसान सेवा केन्द्र पहुँचे।

झाँसी से लगभग 30 किलोमीटर के इस दायरे में भी राहुल के साथ कारों का काफिला तो था लेकिन कोई भी बड़ा कांग्रेसी इस दौरान भी नजर नहीं आया। अल्बत्ता घिसौली गाँव के लोगों में युवराज के आगमन को लेकर बना उत्साह राहुल के आने तक पूरे शबाब पर पहुँच चुका था।

बुन्देलखण्ड मुक्तिमोर्चा के कार्यकर्ताओं की मौजूदगी जरूर काफी देर तक पाइप लाइन चौराहे पर शोर शराबे का कारण बनी लेकिन राहुल के सुरक्षा घेरे के आड़े किसी को नहीं आने दिया गया। यहाँ तक कि मीडिया तक को इस समूचे कार्यक्रम से अलग रखा गया और कोई भी राहुल के करीब तक नहीं पहुँच सका।

इधर राहुल से मिलने को बेताब घिसौली गाँव के लोग अपनी समस्याओं के साथ देर शाम तक पाइप लाइन चौराहे पर एकत्र रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिर चला राहुल का जादू