class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मायावती द्वारा दिनकरन की पैरवी दुर्भाग्यपूर्णः भाजपा

भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री मायावती द्वारा संसदीय महाभियोग के आरोपी न्यायमूर्ति दिनकरन की पैरवी को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। पार्टी का कहना है कि महाभियोग की कार्यवाही पर राजनैतिक टीकाटिप्पणी नहीं होनी चाहिए।

यह एक बेहद संवेदनशील तथा नाजुक संवैधानिक मसला है। संविधान में न्यायमूर्ति पर महाभियोग लाने की एक सुनिश्चित प्रक्रिया है। न्यायमूर्ति को अपना पक्ष रखने के अवसर मौजूद हैं। ऐसे में बसपा बेवजह ही आरोपी न्यायमूर्ति की वकालत कर रही है।

यहाँ पत्रकारों से बात करते हुए भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष तथा प्रवक्ता हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि देश न्यायपालिका को सर्वोच्च आदर सम्मान देता है। न्यायमूर्ति आदरणीय होते हैं मगर उन पर भी संविधान की मर्यादा है।

बसपा को महाभियोग की कार्यवाही में ही अपना मत रखना चाहिए था लेकिन बसपा ने मीडिया को माध्यम बनाकर न्यायपालिका को राजनैतिक बहस में घसीटा है। ऐसा कृत्य संवैधानिक मर्यादा के विरुद्ध है। मुख्यमंत्री को संविधान का आदर करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मायावती द्वारा दिनकरन की पैरवी दुर्भाग्यपूर्णः भाजपा