class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नए फॉर्मेट में होगी इंटर की परीक्षा

नौवीं व दसवीं कक्षा की परीक्षा नए फार्मेट में कराने के बाद अब यूपी बोर्ड की नजर इंटर पर है। बोर्ड परीक्षा को आसान बनाने के लिए नौवीं और दसवीं की तरह इंटर के भी कुछ विषयों के प्रश्न पत्र कम कर दिए गए हैं।

सूत्रों की मानें तो माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के नए फामूले को लागू करने के लिए सभी जिला शिक्षा विभाग को निर्देश जारी कर दिए गए हैं, लेकिन डीआईओएस, जनपद को अभी तक आदेश की कॉपी नहीं मिली है। डीएसओ ज्योति प्रसाद के अनुसार नए फार्मूले में सीबीएसई के पैटर्न को अपनाने का भरसक प्रयास किया गया है, जिससे कि छात्रों पर परीक्षा का बेवजह दबाव नहीं पड़े।

नए फार्मूले में दसवीं की तरह इंटर के परीक्षार्थियों को हिन्दी और गणित में राहत देने जा रहा है। यूपी बोर्ड के फैसले से गौतमबुद्ध नगर के 12 हजार परीक्षर्थियों को लाभ मिलेगा। यहीं नहीं इससे शिक्षक भी चैन की सांस ले सकेंगे क्योंकि उन्हें एक-एक प्रश्न पत्र की अतिरिक्त तैयारी नहीं करानी पड़ेगी।

जिला शिक्षा विभाग के अनुसार नई व्यवस्था अगले शैक्षणिक सत्र के बाद यानी 2012 में लागू हो सकेगी। इस तरह अगले साल के बाद होने वाली इंटर की परीक्षा में गणित और हिन्दी के तीन-तीन प्रश्न पत्र की बजाय दो-दो प्रश्न पत्र होंगे।

मिहिर भोज इंटर कालेज के डा. भगत सिंह के अनुसार नई व्यवस्था के लागू होने से शिक्षकों के साथ-साथ छात्रों को भारी राहत मिलेगी। इससे छात्रों का समय बेवजह बर्बाद नहीं होगा। सूत्रों की मानें तो आने वाले दिनों में यूपी माध्यमिक बोर्ड सीबीएसई के पैटर्न पर परीक्षा आयोजित करेगा, जिससे कि छात्रों पर से परीक्षा के बोझ को दूर किया जा सकें।

दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षा को और असान बनाने के लिए प्रदेश स्तर पर बनी समिति में जनपद के भी कुछ रिटायर शिक्षकों को शामिल किया गया है। शिक्षकों के अनुसार समिति की सिफारिश पर विभिन्न प्रश्न पत्रों को छोटा करने पर विचार किया जा रहा है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नए फॉर्मेट में होगी इंटर की परीक्षा