class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेल में गूंजीं वेद ऋचाएं

चौकाघाट स्थित जिला जेल परिसर में चल रहे योग शिविर के दौरान शनिवार को हवन-पूजन के साथ वैदिक ऋचाओं से जेल परिसर गुंजायमान रहा। जाने-अनजाने अपराध की दुनिया में आए बंदियों ने योग की महत्ता समङी और योगाभ्यास किया।


पतंजलि योग समिति के सौजन्य और जिला जेल प्रशासन के सहयोग से आयोजित शिविर में बंदियों में योग के प्रति गजब का उत्साह दिखा। समिति के प्रमुख प्रमोद आर्य के नेतृत्व में वेद मंत्रों के बीच हवन हुआ। जिला जेल के अधीक्षक रामकुमार त्रिपाठी ने कहा कि योग की महत्ता दुनिया ने स्वीकार कर ली है। जेल में इस तरह के आयोजनों से बंदियों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ी है। उनके मन में सकारात्मक विचारों का उदय होगा। समिति के राज्य प्रभारी हरिशंकर दूबे ने भी योग के आध्यात्मिक पहलू से बंदियों को परिचित कराया। कहा, जीवन में अनुशासन लाने का यह अनूठा उपाय है। डा. त्रिभुवन सिंह ने नियमित योगाभ्यास करने पर जोर दिया। डा. एके सिंह ने योग व आयुर्वेद का वैज्ञानिक विश्लेषण करते हुए प्राणायाम एवं आसनों से लाभ की जानकारी दी। कहा, इसके लिए जरूरी है कि आहार-विहार और जीवन शैली में भी बदलाव लाया जाए। जो योग की शरण में होगा उसके जीवन में बदलाश अवश्यंभावी है। कार्यक्रम में वेद प्रकाश आर्य ने भी विचार व्यक्त किए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जेल में गूंजीं वेद ऋचाएं