class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरएसएस से संबंधों ने गडकरी को बनाया भाजपा का अध्यक्ष

आरएसएस से संबंधों ने गडकरी को बनाया भाजपा का अध्यक्ष

आरएसएस के स्वयंसेवक और छात्र नेता के रूप में राजनीतिक यात्रा की शुरुआत करने वाले 52 वर्षीय नितिन गडकरी शनिवार को भाजपा के अब तक के सबसे कम उम्र अध्यक्ष बन गए।

भाजपा संसदीय बोर्ड द्वारा सर्वसम्मति से पार्टी अध्यक्ष बनाए गए गडकरी संघ के अनुशासित सिपाही माने जाते हैं। वह महाराष्ट्र से भाजपा के पहले अध्यक्ष हैं। वह नागपुर के हैं जहां संघ का मुख्यालय है।

उनके अध्यक्ष बनने के साथ ही संघ प्रमुख मोहन भागवत की यह बात सही साबित हो गई भाजपा का नया अध्यक्ष दिल्ली से बाहर का और 60 साल से कम का होगा। पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने तक वह महाराष्ट्र भाजपा के प्रमुख थे।

गडकरी के तत्कालीन संघ प्रमुख बालासाहब देवरस के समय से आरएसएस नेतृत्व से घनिष्ठ संबंध रहे हैं। देवरस के बाद संघ प्रमुख बने रज्जू भइया, के सी सुदर्शन और वर्तमान प्रमुख मोहन भागवत तक सभी से उनके नजदीकी संबंध हैं।

लोकसभा चुनाव में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन और उसके बाद नेताओं के बीच मची खींचतान पर संघ ने युवा और दिल्ली से बाहर के व्यक्ति को भाजपा की कमान देने की मुहिम चलाई।

इससे पहले महाराष्ट्र में शिवसेना-भाजपा सरकार में पी डब्ल्यू डी मंत्री बनाए जाने पर उन्होंने अपने कामकाज से काफी वाहवाही लूटी थी। मुंबई-पुणे एक्सप्रेस वे और हाल ही में बन कर तैयार अत्याधुनिक तकनीक वाले सी लिंक ब्रिज का श्रेय उन्हीं को दिया जाता है।

भाजपा के नए अध्यक्ष की तलाश में संघ नेतृत्व ने गडकरी के साथ गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का नाम आगे किया था। लेकिन पर्रिकर द्वारा आडवाणी को पुराना अचार कहे जाने पर वह इस दौड़ में पीछे छूट गए।
गडकरी ने 1976 में नागपुर विश्वविद्यालय में भाजपा की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की।

बाद में वह 24 साल की उम्र में भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष बने। इसके बाद उन्हें नागपुर भाजपा इकाई का सचिव बनाया गया। तत्पश्चात उनका राजनीतिक जीवन परवान चढ़ता गया और तीन दशक की राजनीतिक यात्रा में ही वह आज भारत की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के अध्यक्ष बन गए।

गडकरी सफल उद्यमी हैं। वह एक बायो-डीजम्ल पंप, एक चीनी मिल, एक लाख 20 हजार लीटर क्षमता वाले इथानॉल ब्लेन्डिंग संयत्र, 26 मेगावाट की क्षमता वाले बिजली संयंत्र, सोयाबीन संयंत्र और को जनरेशन उर्जा संयंत्र से जुड़े हैं।
उनका जन्म 27 मई 1957 को हुआ था। वह कामर्स में स्नातकोत्तर हैं, इसके अलावा उन्होंने कानून तथा बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई भी की है।

भाजपा के नए अध्यक्ष 32 साल की उम्र में 1990 में ग्रेच्युएट निर्वाचन क्षेत्र से महाराष्ट्र विधान परिषद के सदस्य बने। उन्होंने 1996, 2002 और 2008 में अपनी यह सीट बचाए रखी। 2002 में वह निर्विरोध चुने गए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आरएसएस से संबंधों ने गडकरी को बनाया भाजपा का अध्यक्ष