class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खुलेंगे राज़ मगर ‘सच का सामना’ की तरह नहीं: बाबुल

खुलेंगे राज़ मगर ‘सच का सामना’ की तरह नहीं: बाबुल

सुपवित्र बाबुल हाल ही में आए शो ‘राज़ पिछले जन्म का’ के कॉन्सेप्ट राइटर और डायरेक्टर हैं। उनका दावा है कि ज्यादातर रियलिटी शो के उलट ये आइडिया पूरी तरह से ऑरिजनल और भारतीय है। क्या है ‘राज़ पिछले जन्म का’ के और राज़, आइए जानते हैं बाबुल से।

‘राज़ पिछले जन्म का’ को शुरु हुए अब एक हफ्ते से ज्यादा बीत चुका है, दर्शकों और चैनल का कैसा रिसपॉन्स है?
शुरुआत में ही शो शानदार प्रदर्शन कर रहा है। राज़ फिलहाल देश के टॉप-10 शो में शामिल हो चुका है। औसत टीआरपी भी साढ़े तीन तक आ रही है और बीच-बीच में ये कई बार साढ़े चार से पांच के बीच भी पहुंच चुकी है। शो की ऐसी ओपनिंग से एनडीटीवी इमेजिन भी काफी खुश है।

’पास्ट लाइफ रिग्रेशन थैरेपी’ ऐसा नहीं लगता कि ये अंधविश्वास का ही आधुनिक वर्जन है?
दरअसल इसमें अंधविश्वास जैसा कुछ भी नहीं है। ’पास्ट लाइफ रिग्रेशन थैरेपी’ एक तरह से हमारे धर्म से ही जुड़ा है। हिंदू पुराणों के साथ-साथ दूसरे धर्मों में भी अवतारों को मान्यता दी गई है। ‘राज़ पिछले जन्म का’ का भी यही आधार है। ये थैरेपी लगभग बीस हजार साल पुरानी है, जो एक तरह से श्वास पर आधारित प्रणायाम क्रिया ही है।  

इतने पेचीदा कॉन्सेप्ट के साथ आपने चैनल और प्रोड्यूसर को कैसे मनाया?
मैं सबसे पहले शो का पायलट एपिसोड सोनी एंटरनेटमेंट के पास लेकर गया था, लेकिन उन्होंने इसे अंधविश्वास कहकर खारिज कर दिया। चैनलों की प्रतिक्रिया थी कि ये सब बड़े आदमी के चोंचले हैं और इसमें आम-आदमी का कुछ लेना-देना नहीं है। लेकिन जब मैं अपनी ढाई साल की रिसर्च के साथ एक बिल्कुल ऑरिजनल आइडिया एनडीटीवी इमेजिन के पास लेकर गया तो उन्हें ये काफी अच्छा लगा।

शो की विश्वसनीयता क्या है, आखिर क्यों दर्शक कनटेस्टेंट के पिछले जन्म की बातों को सच मानें?
अगर आपने राज़ का पहला एपिसोड देखा होगा तो उसमें एक ऐसा शख्स दिखाया गया, जिसकी पिछले जन्म में प्लेन क्रैश में मौत हुई थी। हमने शो के दौरान उस शख्स के पिछले जन्म के माता-पिता को भी बुलाया था। तब उस आदमी के पिछले जन्म की बातें उसके माता-पिता से पूछी गई, जो सच भी साबित हुई। तो यही बातें हमारी विश्वसनीयता पुख्ता करती हैं।


शो के एंकर रवि किशन हैं, बिहार-झारखंड में उनकी दर्शक संख्या काफी अच्छी है। इन इलाकों में अभी भी ऐसी धार्मिक चीजों को मान्यता दी जाती है। रवि किशन को रखने के पीछे क्या यही सोच रही है?
दरअसल शो का एंकर तय करने से पहले हमारी सोच ये थी कि वो कोई आम चेहरा हो और उसकी आम दर्शकों तक पहुंच हो। हमें बतौर एंकर कोई ग्लैमरस फेस नहीं चाहिए था। इस मामले में रवि किशन बिल्कुल फिट थे। वो आम दर्शकों से सीधे जुड़ते हैं और उनकी अपनी एक शब्दावली भी है।

राज़ में शेखर सुमन और मोनिका बेदी जैसी सेलीब्रिटी के प्रोमो दिखाए जा रहे हैं, आने वाले टाइम में दर्शकों को किसी बड़े स्टार का पिछला जन्म देखने को मिलेगा?
जी हां.. हम बीच-बीच में ऐसी सेलीब्रिटी को शो में लाते रहेंगे। वैसे इस शो में वही कनटेस्टेंट बुलाए जाते हैं जिनका पिछला जन्म उनके इस जन्म पर हावी हो। उन्हें कोई डर सताता हो या बुरे सपने आते हों.. या फिर कुछ और।

’सच का सामना’ में मौजूदा जन्म के ऐसे राज़ खोले गए, जिसने काफी सनसनी पैदा की। क्या पिछले जन्म के राज़ खोलने का भी कुछ ऐसा ही मकसद है?
‘सच का सामना’ परिवार तोड़ने की बात करता था जबकि हम लोगों की समस्याओं का हल निकालेंगे। उनके डर को दूर करेंगे। ’सच का सामना’ एक ऐसा शो था जिसका भारतीय समाज से कुछ लेना-देना नहीं था। जबकि हमारा शो इससे बिल्कुल अलग है। सनसनी पैदा करना इसका मकसद नहीं है। 

आप फिल्म 'आमिर' और कई दूसरे म्यूजिकल रियलिटी शो से भी जुड़ चुके हैं। अब आपका क्या नया लक्ष्य है?
मैं फिल्मों में डायरेक्शन करना चाहता हूं लेकिन इसके लिए मैं कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहता। मेहनत कर रहा हूं और धीरे-धीरे ये मुझे अपने लक्ष्य के करीब पहुंचा रही है। फिलहाल फिल्मों की स्क्रिप्ट पर भी काम कर रहा हूं।

‘राज़ पिछले जन्म के बाद’ आपका कोई नया रियलिटी शो?
कई दूसरे आइडिया पर काम चल रहा है। लेकिन राज़ की तरह ये सब ऑरिजनल होने के साथ-साथ पूरी तरह से भारतीय होंगे। बस आप थोड़ा इंतजार कीजिए।

 बाबुल का प्रोफाइल
‘राज़ पिछले जन्म का’ के कॉन्सेप्ट राइटर, डेवलेपर और डायरेक्टर
फिल्म ’आमिर’ के सुपरवाइजिंग प्रोड्यूसर और यूनिट सिनेमेटोग्राफर
’राखी का स्वयंवर’ के कास्टिंग प्रोड्यूसर
‘के फॉर किशोर’ (सोनी), ’लेट्स टॉक’ (ज़ूम), ’एक्टिंग की फनशाला’ (सब टीवी) जैसे शो के कॉन्सेप्ट राइटर
’फेम गुरुकुल’, ’डील या नो डील’, ’मैं हूं’, ’इंडियन आइडल टकाटक’, ’इंडियन आइडल’ के सुपरवाइजिंग प्रोड्यूसर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अंधविश्वास नहीं है ‘राज़ पिछले जन्म का’: बाबुल