class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोन गारंटर

लोन लेने की प्रक्रिया आजकल ज्यादा मुश्किल नहीं रही है। लोगों को लगता है कि थोड़ी सी कागजी कार्यवाही के बाद लोन आसानी से मिल जाता है, लेकिन इस प्रक्रिया में बैंक मजबूत गारंटर भी मांगता है। लोन लेने वाले की तरह ही गारंटर की भी सारी जानकारी फॉर्म में दी जाती है, जैसे उसका पता, टेलीफोन नंबर आदि क्योकि किसी व्यक्ति के लोन अदा न करने पर उसके गारंटर होने के नाते आप पर कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है। हो सकता है कि आप पर भी अपने किसी मित्र या रिश्तेदार के लोन गारंटर बनने की नौबत आए। यह मौका रिश्तों के लिहाज से कई बार नाजुक मुकाम पर आ जाता है। फिर भी आपको लोन गारंटर बनना ही पड़े तो पहले कुछ बातों पर गौर जरूर कर लें।

बैंक वसूलेगा पैसा : बैंक लोन देने से पहले ही गारंटर इसलिए मांगता है ताकि लोन वाले व्यक्ति के पैसे अदा न करने पर वह गारंटर से देनदारी अदा करने के लिए दबाव बना सके और उससे लोन न वसूल पाने की स्थिति में आपसे भी लोन राशि की वसूली कर सकता है।

पहले सोचिए : अगर आपको अपने लिए भी भविष्य में लोन लेना है, तो गारटंर बनने से पहले एक बार सोचिए क्योंकि आपके लोन लेने के दौरान कंपनियां आपके गारंटर वाले फैक्टर को जेहन में रखेंगी। मसलन, आपने जिसकी लोन गारंटी दे रखी है, उसकी मासिक किस्त 10 हजार है और आपकी मासिक आय 20 हजार, तो कंपनी आपकी आय दस हजार रुपए मानेगी, क्योंकि वह नजरअंदाज नहीं कर सकती कि जिसके आप गारंटर हैं, उसके अदा करने की स्थिति में आपको लोन लौटाना पड़ सकता है।

लोन लेने वाले की क्षमता और नीयत : आप इस बात को भी पहले अच्छी तरह परख लें कि लोन लेने वाले का इरादा बैंक से धोखा करने का तो नहीं। उसकी क्षमता और नीयत पर आपको पूरा भरोसा होना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लोन गारंटर