DA Image
27 फरवरी, 2020|10:23|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दाल बेचने के लिए लेना पड़ेगा लाइसेंस

चीनी के बाद बिहार में दाल के भी कारोबार के लिए लेना होगा लाइसेंस। चावल को भी स्टॉक लिमिट ऑर्डर के दायरे में ला दिया गया है। व्यापारियों को 100 क्विंटल तक दाल रखने पर लाइसेंस की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसी प्रकार नगर निगम क्षेत्र के व्यापारी एक समय में अधिकतम 2000 क्विंटल ही चावल का स्टॉक रख सकेंगे। केन्द्र सरकार की पहल पर राज्य के खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने लाइसेंसिंग और स्टॉक लिमिट ऑर्डर जारी किया है। 


  शुक्रवार को विभागीय सचिव त्रिपुरारि शरण ने सभी जिलों के डीएम को नये बदलाव की जानकारी दे दी है। इसके अनुसार सौ क्विंटल से अधिक दाल रखने पर व्यापारियों को लाइसेंस लेना पड़ेगा। नगर निगम क्षेत्र के व्यापारी एक समय में अधिकतम 750 क्विंटल और अन्य क्षेत्रों के व्यापारी 500 क्विंटल दाल रख सकेंगे। नगर निगम क्षेत्र के बाहर से व्यापारी एक समय में 1000 क्विंटल से अधिक चावल का स्टॉक नहीं रख सकेंगे जबकि चावल मिलों को एक समय में 3000 क्विंटल चावल रखने की इजाजत होगी। इस आदेश से राज्य में दाल और चावल की जमाखोरी और कालाबाजारी पर नियंत्रण में आसानी होगी। इसके तहत व्यापारी स्टॉक प्राप्ति के एक माह तक ही गोदाम में रख सकेंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:दाल बेचने के लिए लेना पड़ेगा लाइसेंस