class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गार्ड की ‘आत्महत्या’ पर सवाल, जांच होगी

सीजीएम सतवीर सिंह की अदालत ने सिक्योरिटी गार्ड बब्लू की हत्या के मामले में मृतक के भाई का प्रार्थना पत्र स्वीकार करते हुए कासना थाना प्रभारी को आदेश किया कि वह मामले को दर्ज कर विवेचना सुनिश्चित करें और रिपोर्ट की एक कॉपी न्यायालय में जल्द से जल्द पेश करें। केस की फाइल 23 दिसंबर तक पेश करने का निर्देश दिया गया है।


मामला 21 नवंबर की रात का है। इसी रात मृतक गार्ड की अंतिम ड्यूटी ऐच्छर गांव थाना कासना पर थी। मृतक सिक्योरिटी गार्ड बब्लू के मृत शरीर को लेकर उसके दो साथी दो दिन बाद उसके गांव अहलवारा जिला ओरैया पहुंचे। अचानक बब्लू के मृत शरीर को देखकर सारा परिवार शोक में डूब गया। पीड़ितों को बताया गया कि उसने आत्महत्या कर ली है। लेकिन पीड़ितों को न तो गार्ड बब्लू की मृत्यु की सूचना दी गई और ना ही उसके  पंचनामा और पोस्टमार्टम की सूचना, ना ही सूचना देने का कारण बताया। मृतक के घर वालों को उन लोगों पर शक हुआ। शक के चलते अंतिम संस्कार के बाद मृतक का भाई और पिता दो लोगों के साथ ऐच्छर गांव गए। वहां पहुंच कर जानकारी जुटानी शुरू की तो मृतक के साथी गार्डो और गांव वालों ने बताया कि उस रात शिव कुमार शर्मा और गनमैन दीवान का बब्लू के साथ पैसों को लेकर झगड़ा हुआ था।


यह सब सुनकर पीड़ितों को लगा कि कहीं न कहीं कुछ गड़बड़ है। इसके चलते पीड़ितों ने कासना थाना में गुहार लगाई, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। उसके बाद एसएसपी से गुहार लगाई, वहां भी सुनवाई न होने पर हारकर अंत में कोर्ट की शरण ली। कोर्ट ने पीड़ितों का प्रार्थना पत्र स्वीकार करते हुए कासना थाना अध्यक्ष को मुकदमा दर्ज कर विवेचना करना सुनिश्चित करने का आदेश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गार्ड की ‘आत्महत्या’ पर सवाल, जांच होगी