class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माले की अपील पर लोगों ने निकाला जुलूस

भारत की कम्युनिस्ट पार्टी माले की अपील पर असंगठित क्षेत्र के कामगारों,खोखा-पटरी वेंडरों, घरेलू कामगारों और महिला मज़दूरों ने रामलीला मैदान से संसद मार्ग तक जुलूस निकालकर अपनी मांग बुलंद की। इस जुलूस में शिक्षक,छात्र और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी शिरकत की। यह संकल्प जुलूस कम्युनिस्ट नेता विनोद मिश्र की 11वीं बरसी पर आवास, आजीविका और जनवाद पर बढ़ते हमलों के विरोध में निकाला गया।
 
संसद मार्ग पर पहुंचकर जुलूस उस जगह एक बड़ी सभा में तब्दील हो गया जहां पुलिस ने रुकावट करके प्रदर्शनकारियों को रोका गया था। प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए सीपीआई एमएल के दिल्ली राज्य सचिव संजय शर्मा, एक्टू के दिल्ली महासचिव संतोष राय,ऐपवा की सचिव कविता कृष्णन, एक्टू के प्रदेश सचिव वीकेएस गौतम, आल इंडिया स्टूडेंट एसोसिएशन के महासचिव रवि राय, जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष संदीप सिंह के अलावा एक दजर्न अन्य वक्ताओं ने राज्य व केन्द्र सरकारों की जनविरोधी नीतियां, बढ़ती महंगाई, लचर कानून व्यवस्था, महंगी शिाक्षा और बहुराष्ट्रीय कंपनियों और बड़े घरानों को लाभ पहुंचाने के खातिर बनी सरकारी नीतियों की कड़ी आलोचना की।

वक्ताओं ने कहा कि सरकार आम आदमी को रोज़ी-रोटी ,शिक्षा, साफ पीने का पानी, चिकित्सा सुविधाएं और सुरक्षा देने की बजाय बड़े घरानों और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के हितों के लिए कदम उठा रही है।
डिप्लोमा इंजीनियर्स - देशभर से जुटे डिप्लामा इंजीनियरों ने अपना दो दिनी धरना ख़त्म करके संसद मार्ग पर प्रदर्शन करते हुए अपनी मांगें बुलंद की। प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन भी दिया। प्रदर्शनकारी हाथों में नारे व अपनी मांगें लिखी तखितयां लिये थे। प्रदर्शकारी वेतन विसंगतियां दूर करने, समान पद पर समान वेतन आदि मांगों को लेकर आंदोलित हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माले की अपील पर लोगों ने निकाला जुलूस