अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्व सांसद अतीक अहमद के शूटर मल्ली की करतूत


पूर्व सांसद अतीक अहमद के शूटर मल्ली के रायफल का पता लगाने में पुलिस अभी तक नाकाम रही है। मल्ली ने दिल्ली की एक कालोनी का फर्जी पता देकर शस्त्र लाइसेंस ले लिया था।

राजूपाल हत्याकांड के एक गवाह को धमकाने के मामले में मल्ली का नाम सामने आया तो पुलिस को रायफल की जानकारी हुई। मल्ली की गिरफ्तारी के बाद पुलिस रायफल की तलाश में जुटी है। इस बाबत दिल्ली पुलिस से भी संपर्क किया गया है।

धूमनगंज के उमरी गाँव का रहने वाला आशिक उर्फ मल्ली भाई के गैंग का सदस्य है। पूर्व विधायक राजूपाल की हत्या के मामले में मल्ली भी आरोपित है। उस पर आरोप है कि हत्याकांड के एक गवाह को उसने रायफल से धमकी दी थी।

पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू की तो पता चला कि मल्ली ने जिले से कोई शस्त्र लाइसेंस लिया ही नहीं था। तफ्तीश के दौरान पता चला कि असलहे का लाइसेंस दिल्ली की आईएनए कालोनी से लिया गया है। मल्ली ने इस कालोनी का निवासी बताते हुए लाइसेंस के लिए आवेदन किया था।

दिल्ली पुलिस ने इस फर्जी पते का सत्यापन कर दिया, जबकि उस समय तक मल्ली अतीक गैंग से जुड़ गया था। दिल्ली एलआईयू की जाँच में भी बदमाश मल्ली को क्लीन चिट दे दी गई।

इंस्पेक्टर रघुनाथ गौतम ने बताया कि रायफल की तलाश की जा रही है। गिरफ्तारी के बाद मल्ली ने रायफल दिल्ली में ही होने की बात कही है। इस बाबत दिल्ली पुलिस को सूचना दे दी गई है। जल्द ही उसका लाइसेंस निरस्त करने के लिए रिपोर्ट भेजी जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूर्व सांसद अतीक अहमद के शूटर मल्ली की करतूत