class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

थोक और फुटकर के भारी अंतर को पाटेगी सरकार

महंगाई पर नियंत्रण करने के लिए राज्य सरकार खाद्यान्न वस्तुओं की समानान्तर बिक्री की व्यवस्था करेगी। यह जानकारी देते हुए प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद जैकब थामस ने बताया कि थोक और फुटकर मूल्यों में भारी अंतर के मामले को राज्य सरकार ने काफी गंभीरता से लिया है।

उन्होंने कहा कि जनता को सही दाम पर खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार हर संभव कदम उठाएगी। श्री थामस ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि केन्द्र ने राज्यों से जरूरत होने पर अपने स्तर पर खाद्यान्न वस्तुओं का आयात करने के लिए कहा है।

उन्होंने कहा कि चीनी के दामों में निरन्तर वृद्धि को देखते हुए राज्य सरकार चीनी का आयात करने पर विचार कर रही है। उन्होंने बताया कि 24 हजार 200 मीट्रिक टन पीली मटर को सस्ती दर पर आयात कर राशन की दुकानों के माध्यम से बेचने की प्रक्रिया चल रही है। इससे पहले राज्य सरकार मूल्य नियंत्रण योजना के तहत आयातित उड़द, मूँग, चना एवं मटर की दाल को सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत राशन की दुकानों से बेच चुकी है।

उन्होंने बताया कि मूल्य नियंत्रण के लिए सभी जिलाधिकारियों और मण्डलायुक्तों से थोक और फुटकर मूल्यों की निगरानी करने के लिए कहा गया है। अंतर होने पर पहले व्यापारियों से बात की जाएगी और न मानने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने बताया कि इस वर्ष अभी आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत करीब 25 हजार छापे मारे गए हैं। 1245 एफआईआर दर्ज हुई है और 493 लोग गिरफ्तार किए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:थोक और फुटकर के भारी अंतर को पाटेगी सरकार