class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

3जी के बाद अब एमएनपी पर भी अनिश्चितता के बादल

3जी के बाद अब एमएनपी पर भी अनिश्चितता के बादल

अपना मोबाइल नंबर बरकरार रखते हुए आपरेटर बदलने की सुविधा के लिए मोबाइलधारकों को अभी तीन से छह माह का इंतजार और करना पड़ेगा क्योंकि कंपनियां अभी अपने नेटवर्क का मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी के लिए उन्नयन नहीं कर पाई हैं।

दूरसंचार विभाग के साथ शुक्रवार को बैठक में मोबाइल सेवा प्रदाताओं ने 31 दिसंबर की तय सीमा के भीतर एमएनपी की घंटी बजाने में समर्थता जताई। शुरुआत में एमएनपी सुविधा चार मेट्रो शहरों दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और कोलकाता में लागू होनी है।

निजी आपरेटरों की बात तो दूर सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियां बीएसएनएल तथा एमटीएनएल ने भी कहा है कि एमएनपी के लिए उनका नेटवर्क तय समय पर तैयार नहीं हो पाएगा। दोनों कंपनियों ने संकेत दिए हैं कि उन्हें इसके लिए अगले साल मार्च तक का समय चाहिए।

    इस बारे में संपर्क करने पर डाट के एक अधिकारी ने कहा कि एमएनपी को तब तक शुरू नहीं किया जा सकता जब तक नेटवर्क शतप्रतिशत तैयार न हो जाए। कुछ मामलों में आपरेटरों का नेटवर्क तैयार नहीं है। ऐसे में नंबर पोर्टेबिलिटी को लागू कर पाना संभव नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:3जी के बाद अब एमएनपी पर भी अनिश्चितता के बादल