अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बात करें ध्यान से

फोन पर बात करने का भी अपना तरीका होता है। इस पर बात करते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि कोई ऐसी बात मुंह से न निकले जिससे आगे चलकर कोई समस्या उठ सकती हो। उदाहरण के लिए देश और उसकी रक्षा संबंधी संवेदनशील बातों के प्रति सावधानी से ही बात करनी चाहिए।

इसी तरह कार्यस्थल पर आपके साथ जुड़े किसी वरिष्ठ कर्मी या अन्य सहकर्मी के बारे में भी कोई वक्तव्य सोच समझ कर ही दें। कहने का तात्पर्य ये कि ऐसे ही कई अन्य मामले होते हैं, निजी और आम, जिन पर सोच-समझ कर ही बात करनी चाहिए। लिहाजा, फोन पर बात करते समय कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए :

- मोबाइल पर पब्लिक में बात करते समय ध्यान रखें कि कोई आपकी बात सुन तो नहीं रहा।
- पैसे के लेन-देन की बातचीत कभी सार्वजनिक स्थानों या किसी अनजान व्यक्ति के सामने न करें।
- पब्लिक में कभी अपना फोन नंबर, कोई पासवर्ड या बैंक अकाउंट नंबर या लॉकर नंबर कभी न बताएं।
- निजी बातें भी फोन पर अधिक न करें। पब्लिक में मोबाइल फोन पर तो निजी बातें करने से बिल्कुल परहेज करें। यह किसी भी दृष्टि से ठीक नहीं होता।
- घर की बातें बिल्कुल भी मोबाइल पर पब्लिक में नहीं करनी चाहिए।
- अपने रोजमर्रा के प्रोग्राम के बारे में कभी पब्लिक में फोन पर बात न करें।
- कई लोगों में पैसे की शान दिखाने की आदत होती है। अपने पैसे, जेवर आदि की बात पब्लिक में फोन पर ऊंची आवाज में न करें। बच्चों के सामने तो ऐसी बातें बिल्कुल न करें।
- कामकाजी व्यक्ति घर में इंतजार कर रहे बच्चों या वृद्धों के बारे में भी सोच-समझ कर फोन पर सार्वजनिक स्थानों पर बात करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बात करें ध्यान से