class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गरीबी की कीमत पर पर्यावरण संरक्षण नहीं: पीएम

गरीबी की कीमत पर पर्यावरण संरक्षण नहीं: पीएम

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि पर्यावरण संरक्षण के प्रति भारत प्रतिबद्ध है, जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए कुछ ज्यादा करने का इच्छुक भी है, लेकिन विकासशील देशों में बरकरार गरीबी की कीमत पर इस वैश्विक समस्या से नहीं निपटा जा सकता।

जलवायु परिवर्तन के मसले पर आयोजित शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए कोपेनहेगन रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री ने कहा, ''अंतरराष्ट्रीय समुदाय के एक जिम्मेदार सदस्य के रूप में भारत पर्यावरण के संरक्षण और हिफाजत के लिए शेष विश्व के साथ मिलकर काम करने को पूरी तरह प्रतिबद्ध है।''

सिंह ने किसी दवाब के आगे झुकने से साफ इनकार करते हुए कहा, ''पर्यावरण हमारी सामूहिक धरोहर है, जिसे अपनी भावी पीढियों के लिए हमें विरासत में छोड़ना है। इसके साथ ही विकासशील देशों में बरकरार गरीबी की कीमत पर जलवायु परिवर्तन की समस्या से नहीं निपटा का जा सकता।''

उन्होंने कहा कि विश्व के तापमान में वृद्धि का सबसे ज्यादा प्रभाव भारत जैसे विकासशील देशों पर पड़ रहा है और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के एक जिम्मेदार सदस्य के रूप में भारत पर्यावरण के संरक्षण के लिए अत्यधिक कदम उठाएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा, ''मैं कोपेनहेगन में रचनात्मक विचार-विमर्श का उत्सुक हूं जिससे सभी लोगों की सामूहिक भावनाएं मिल सकें  और जलवायु परिवर्तन से लड़ने के वैश्विक प्रयासों की दिशा में आगे बढ़ा जा सके।''

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री के दो दिवसीय कोपेनहगन दौरे पर उनके साथ विदेश सचिव निरुपमा राव, जलवायु परिवर्तन पर प्रधानमंत्री के विशेष दूत श्याम शरन और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी होंगे। पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश पहले ही कोपेनहेगन में मौजद हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गरीबी की कीमत पर पर्यावरण संरक्षण नहीं: पीएम