class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूखे के चलते धान की खरीद प्रभावित

सूखे के चलते धान खरीदने के मामले में जिले के अफसरों और कर्मचारियों को कामयाबी नहीं मिल पा रही है। प्रयास के बावजूद जिले में अभी तक पसेरी भर धान खरीदा नहीं जा सका है। यह स्थिति तब है जब शासन ने धान बेचने की सीमा 15 कुंतल को शिथिल कर दिया है। किसान अब जितनी मात्र में धान लाएंगे उन्हें धान क्रय केंद्र के प्रभारी खरीदने के लिए बाध्य होंगे।


वाराणसी जनपद में करीब एक महीने पहले धान की फसल कट चुकी है। धान खरीदने के लिए शासन ने टोकन योजना शुरू की थी। जिले के किसानों को ये पर्चियां बांटी जा चुकी हैं। पहले हर किसान से सिर्फ 15 कुंतल धान खरीदने की योजना बनाई गई थी। बाजार में धान का भाव अच्छा होने और सूखे के चलते किसान अपनी उपज सरकारी क्रय केंद्रों पर लेकर नहीं गए। ज्यादातर किसानों के पास सिर्फ नाम के लिए धान हुआ। जिन किसानों ने अच्छी फसल उगाई उन्होंने खुले बाजार में सरकारी रेट से थोड़ा कम पर धान बेच डाला। इसके चलते जिले में धान की खरीद नहीं हुई। शासन ने धान की कीमत 950 रुपये प्रति कुंतल तय कर रखा है। इस पर 50 रुपये बोनस रखा गया है। इस तरह से 1000 रुपये प्रति कुंतल की दर से धान की खरीद की जानी है।


वाराणसी मंडल में अभी तक सिर्फ 13 हजार कुंतल धान की खरीद हो सकी है, जबकि लक्ष्य इससे कई गुना अधिक है। चंदौली में अभी तक 285 कुंतल, जौनपुर में 2400 कुंतल और गाजीपुर में 10 हजार कुंतल धान की खरीद हो सकी है। वाराणसी जिले में अभी तक खाता ही नहीं खुल सका है। संभागीय खाद्य नियंत्रक आरपी सिंह ने बताया कि अब टोकेन सीमा खत्म कर दी गई है। साथ ही क्रय केंद्रों की बाध्यता भी खत्म कर दी गई है। किसान किसी भी मात्र में कहीं धान बेच सकता है। एसडीएम व तहसीलदार को जोत बही दिखाकर टोकेन प्राप्त कर सकता है। शासन के नए आदेश से लेखपालों की मनमानी भी खत्म हो गई है।

नई व्यवस्था के तहत धान बेचने के साथ ही किसानों को चेक देने के निर्देश दिए गए हैं। श्री सिंह ने बताया कि चंदौली जिले के चकिया व शहाबगंज ब्लाक से शिकायतें मिल रही हैं कि किसानों का धान खरीदने में क्रय केंद्र के प्रभारी आनाकानी कर रहे हैं। यदि किसी किसान को धान बेचने में कोई दिक्कत है तो वे 2500355 और 2508181 पर शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सूखे के चलते धान की खरीद प्रभावित