class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माओवादियों ने नेपाल में खड़ा किया नया राजनीतिक संकट

माओवादियों ने नेपाल में खड़ा किया नया राजनीतिक संकट

नेपाल में एक नए राजनीतिक टकराव को दावत देते हुए माओवादियों ने बुधवार को स्वायत्त क्षेत्र में तब्दील करने के लिए राजधानी काठमांडो पर कब्जे का एलान कर दिया।

लाल झंडे लहराते करीब पांच हजार माओवादी कार्यकर्ता व्यापक सुरक्षा वाले दरबार चौक पर पहुंचे जहां उनके नेता पुष्प कमल दहल प्रचंड ने काठमांडो घाटी को नेवा स्वायत्त क्षेत्र घोषित कर दिया। देश के नौ जिलों में समानांतर सरकार बनाने की पहले ही घोषणा कर चुके माओवादियों ने नेपाली कांग्रेस की उन चेतावनियों को दरकिनार कर दिया है जिनमें ऐसी गतिविधियों से सबसे बड़ा राजनीतिक और सामाजिक टकराव होने की आशंका व्यक्त की गई थी।

माओवादियों का कब्जा हालांकि सांकेतिक था लेकिन ऐसा करने के लिए राजधानी का चुनाव किए जाने से देश में सत्तारूढ़ सीपीएन-यूएमएल नीत गठबंधन में हलचल मच गई है। प्रचंड ने परम्परागत रूप से दीप प्रज्ज्वलित करने के बाद बैनर फहराकर काठमांडो को नेवा स्वायत्त क्षेत्र घोषित किया।

इस दौरान पूरा समां बांधा गया। बंदूकों से सलामी दी गई, सैकड़ों गुब्बारे हवा में छोड़े गए और गाजे-बाजे के बीच शहर को स्वायत्त क्षेत्र घोषित किया गया। प्रचंड ने इस मौके पर कहा कि हमारा मकसद शांति प्रक्रिया को नुकसान पहुंचाना या संविधान निर्माण के काम में बाधा डालना नहीं है। यह तो लोगों को संघवाद के प्रति सतर्क करने और लोकतांत्रिक ढांचे को मजबूत करने के लिए किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माओवादियों ने नेपाल में खड़ा किया नया राजनीतिक संकट