class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्राइवेट बीटीसी कॉलेजों के लिए प्रारूप तय

शासन ने लम्बी कवायद के बाद 194 बीटीसी कॉलेजों में प्रवेश, पढ़ाई और परीक्षा का खाका खींचना शुरू कर दिया है। शासन के निर्देश पर इन प्राइवेट बीटीसी कॉलेजों में प्रवेश, पढ़ाई और परीक्षा की नीति का निर्धारण राज्य शैक्षिक शिक्षा संस्थान (एससीआरटी) ने कर दिया है।

दस दिन के अन्दर अपना प्रस्ताव तैयार करके समिति के  माध्यम से शासन क ो भेजा जाएगा। समिति में विशेष सचिव शासन बेसिक शिक्षा, डायरेक्टर बेसिक शिक्षा, अपर राज्य परियोजना निदेशक उत्तर प्रदेश, सचिव बेसिक शिक्षा और सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी इलाहाबाद शामिल हैं।

इस समिति का समन्वयक डायरेक्टर एससीआरटी को बनाया गया हैं। समिति ने जनवरी के अन्तिम हफ्ते या फरवरी के पहले हफ्ते से दो वर्षीय बीटीसी कोर्स में विशिष्ट बीटीसी के आधार पर प्रवेश, पढ़ाई और परीक्षा की संस्तुति की है।

इस दौरान डायट के पाठ्यक्रम और परीक्षा प्रणाली को अपनाने की संस्तुति की है। दो वर्षीय 194 प्राइवेट बीटीसी कॉलेजों में कुल 9800 सीटें हैं।

सबसे ज्यादा सीटें मेरठ के 89 कॉलेजों में 4450 तो सबसे कम गोरखपुर में एक कॉलेज हैं। इनमें 50 सीटें हैं। इन प्राइवेट बीटीसी कॉलेजों की परीक्षाएँ सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकरी, इलाहाबाद की देखरेख में होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्राइवेट बीटीसी कॉलेजों के लिए प्रारूप तय