class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ड़ेढ सौ में क्या-क्या खरीदेंगे बच्चे

पिछले कुछ महीनों सभी सामान के दामों में हुई बढ़ोतरी ने लोगों को दिवाला निकाल रखा है। बच्चे की पढ़ाई तो दूर लोगों को घर चलाना तक मुश्किल हो रहा है। बढ़ती मंहगाई को देखते हुए बेसिक शिक्षा विभाग ने बालिकाओं को ड्रेस के लिए दी जाने वाली रकम 90 से बढ़ाकर 150 रुपए करने का प्रस्ताव शासन को भेजा हैं। जहां इस कमर तोड़ मंहगाई में जब चीजों के दाम आसमान छू रहे, वहीं 150 रुपए में बच्चे को ड्रेस दिलाने का विभाग का सपना कैसे साकार हो पाएगा।


गौरतलब है कि गरीब तबके की बालिकाओं को समाज की मुख्य धारा में लाने के लिए नेशनल प्रोग्राम ऑफ गल्र्स ऐलीमेंट्री एजूकेशन लेवल के तहत 38 न्याय पंचायत में 165 स्कूल चलाए जा रहे हैं। वहीं इन स्कूलों में पढ़ने वाली बालिकाओं को विभाग की ओर से प्रति वर्ष 90 रुपए ड्रेस के लिए दिए जाते हैं। जिसे शिक्षा विभाग ने 150 रुपए करने का प्रस्ताव शासन को भेजा है। मंहगाई के इस दौर में जहां सभी सामानों के दाम बढ़ गए हैं। वहीं शिक्षा विभाग का ड़ेढ सौ रुपए में छात्रओं को ड्रेस मुहैया कराने की बात कैसे पूरी हो सकेगी। बाजारों में जहां सस्ते से सस्ते स्वेटर का रेट 2 सौ रुपए से ऊपर है, वहीं विभाग बालिकाओं की पूरी ड्रेस के लिए ड़ेढ सौ रुपए का प्रस्ताव शासन को भेज रहा है। जिला समन्वयक बालिका शिक्षा नागेंद्र सिंह ने कहा कि ड्रेस के लिए छात्रओं को पहले 90 रुपए दिए जाते थे। जिसे अब बढ़ाकर 150 करने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ड़ेढ सौ में क्या-क्या खरीदेंगे बच्चे