class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बलिया में कोतवाल से भिड़े द्वाबा विकास मंच के संयोजक

स्थानीय कोतवाली में मंगलवार को उस समय अफरातफरी मच गयी, जब एक मामले की सिफारिश में पहुंचे द्वाबा विकास मंच के संयोजक सुरेन्द्र सिंह के साथ कोतवाल की भिड़ंत हो गयी।

दोनों में पहले हाथापाई फिर मारपीट भी हुई। घटना की सूचना मिलने पर सुरेन्द्र सिंह के समर्थकों ने स्थानीय तिराहे पर कुछ देर के लिए जाम लगा दिया तथा कोतवाल के विरुद्ध नारेबाजी की।

लोग सुरेन्द्र सिंह को छोड़ने की मांग करने लगे। समाचार लिखे जाने तक सुरेन्द्र सिंह के साथ ही चकिया के पूर्व प्रधान शक्ति सिंह पुलिस हिरासत में थे।

12 दिसम्बर को चकिया के पूर्व प्रधान शक्ति सिंह की इंडिका कार गांव से बैरिया की ओर आ रही थी। इसी बीच रेवती की ओर से आ रही बोलेरो से कार की टक्कर हो गयी। बाद में बोलेरो का चालक बैरिया-लालगंज मार्ग पर जीन बाबा के पास बोलेरो छोड़ भाग गया था।

बताया जाता है कि शक्ति सिंह बोलेरो को अपने यहां लेकर आ गये थे। बोलरो के मालिक लालगंज निवासी जितेन्द्र प्रसाद पुत्र रामप्रवेश ने पूर्व प्रधान से यह कहते हुए सुलह की पेशकश की कि कार में जो भी खराबी होगी, उसे बनवा देगा।

बात तब बिगड़ गयी जब बनारस में बनने गयी इंडिका में मैकेनिकों ने खर्च 30 हजार बता दिया। इतनी रकम देने के लिए संभवत: बोलेरो मालिक तैयार नहीं था।

इधर, सोमवार को जितेन्द्र ने स्थानीय कोतवाली में तहरीर देकर कहा कि उसकी बोलेरो चकिया के पूर्व प्रधान जबरिया रोककर रखे हैं और उसका चालक भी गायब है।

कोतवाल ने उक्त तहरीर पर कार्रवाई करते हुए मंगलवार को चौकी चांददीयर गिरीश चौहान को चकिया भेजकर पूर्व प्रधान के दरवाजे पर खड़ी बोलेरो थाने मंगवा ली। कोतवाल ने पूर्व प्रधान को भी थाने पर बुलवाया।

उधर, चकिया के पूर्व प्रधान को कोतवाली में बुलाये जाने की जानकारी पर द्वाबा विकास मंच के संयोजक सुरेन्द्र सिंह भी कोतवाली पहुंच गये। सुरेन्द्र सिंह के अनुसार कोतवाल ने उनकी बातों को गंभीरता से नहीं सुना बल्कि दोनों लोगों के साथ गाली-गलौज करने लगे।

बताया जाता है कि इस दौरान कोतवाल से सुरेन्द्र सिंह की हाथापायी और फिर मारपीट भी हो गयी। गुस्सायी पुलिस ने शक्ति सिंह व सुरेन्द्र सिंह को पीटने के बाद हवालात में डाल दिया।

सूचना पर पूर्व विधायक विक्रम सिंह, नर्वदेश्वर मिश्र, विजय ओझा, श्यामू उपाध्याय, अशोक पांडे, रवि प्रकाश सिंह छोटू, विनायक मौर्य समेत दजर्नों लोग कोतवाली पहुंच गये।

उधर, कोतवाल की सूचना पर भी रेवती, हल्दी व दोकटी के थानाध्यक्ष सदल-बल पहुंच गये। समाचार लिखे जाने तक कोतवाली में भीड़ जमा थी।

उधर, इस संबंध में कोतवाल आरपी शर्मा ने बताया कि चकिया के पूर्व प्रधान शक्ति सिंह व उनके परिवार के दो अन्य लोगों पर 364, 394 के तहत जबकि सुरेन्द्र सिंह के खिलाफ 147, 148, 353, 332 के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बलिया में कोतवाल से भिड़े द्वाबा विकास मंच के संयोजक