class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तेलंगाना-गोरखालैंड के अलावा किसी सूबे का समर्थन नहीं: भाजपा

तेलंगाना-गोरखालैंड के अलावा किसी सूबे का समर्थन नहीं: भाजपा

पृथक तेलंगाना और गोरखालैंड राज्य बनाए जाने की मांग का जोरदार समर्थन कर रही भाजपा ने सोमवार को स्पष्ट किया कि इन दोनों के अलावा वह विदर्भ, पूर्वांचल, हरित प्रदेश या बुंदेलखंड जैसे अलग सूबे की किसी मांग का समर्थन नहीं कर रही है।

पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज ने नई दिल्ली में कहा कि भाजपा महाराष्ट्र में पृथक विदर्भ राज्य बनाए जाने के पक्ष में है लेकिन चूंकि सहयोगी दल शिवसेना इसके सख्त खिलाफ है इसलिए इस पर दबाव बनाने का सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने हालांकि अजित सिंह के नेतृत्व वाले सहयोगी राष्ट्रीय लोकदल की उत्तरप्रदेश में हरित प्रदेश की मांग का समर्थन करने से भी इंकार कर दिया।

उन्होंने कहा कि तेलंगाना और गोरखालैंड पृथक राज्य की मांग को छोड़कर भाजपा हरित प्रदेश, पूर्वांचल, विदर्भ, बुंदेलखंड आदि पृथक राज्यों की मांग पर किसी तरह का विचार नहीं कर रही है।

सुषमा ने बताया कि पार्टी नेता लालकृष्ण आडवाणी के आग्रह के बाद गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने पृथक गोरखालैंड की मांग पर चलाए जा रहे अपने आंदोलन और अनशन को सोमवार को वापस ले लिया।

उन्होंने बताया कि आडवाणी ने उनसे यहां मिलने आए मोर्चा के नेताओं से कहा कि गोरखालैंड की मांग को लेकर तीन दौर की वार्ता हो चुकी है और चौथे दौर की वार्ता 21 दिसंबर को होनी है, ऐसे में आंदोलन और अनशन का रास्ता अपनाने का कोई औचित्य नहीं है। सुषमा ने बताया कि आडवाणी की इस अपील पर मोर्चा ने अपना आंदोलन और अनशन वापस ले लिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तेलंगाना-गोरखालैंड के अलावा किसी सूबे का समर्थन नहीं: भाजपा