class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'हेडली से पूछताछ की अनुमति मिले'

लोकसभा में सोमवार को इस बात पर गहरा रोष जताया गया कि मुंबई आतंकी हमले के षडयंत्रकारी पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी डेविड हेडली को भारतीय खुफिया एजेंसियों द्वारा पूछताछ की अनुमति नहीं दी जा रही है जबकि भारत में पकड़े गए अजमल कसाब से अमेरिकी खुफिया एजेंसी को ऐसा करने की अनुमति प्रदान की जा चुकी है।

सदन में शून्यकाल के दौरान माकपा के एमबी राजेश ने यह मामला उठाते हुए इस बात पर हैरानी जताई कि यह साबित होने के बावजूद कि हेडली मुंबई आतंकी हमले के मुख्य षडयंत्रकारियों में है, भारत को अमेरिका उससे पूछताछ की अनुमति नहीं दे रहा है।

उन्होंने अमेरिका के इस आचरण पर सवाल उठाते हुए कहा कि कहीं ऐसा तो नहीं है कि हेडली के कथित तौर पर सीआईए से तार जुड़े होने के कारण वह नहीं चाहता कि भारत की खुफिया एजेंसियां उससे पूछताछ करें।

राजेश ने इसे शर्मनाक बताते हुए कहा, बताया जाता है कि हेडली अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए के लिए काम करता था और दाउद जिलानी से डेविड कोलमेन हेडली नाम सीआईए ने ही उसे दिया था।

उन्होंने कहा कि मुंबई आतंकी हमले के आतंकवादी कसाब से पूछताछ करने का भारत ने अमेरिकी खुफिया एजेंसियों को पूरा अवसर दिया लेकिन यह आश्चर्य की बात है कि इस साजिश के षडयंत्रकारी हेडली से पूछताछ की भारत की एजेंसियों को इजाजत नहीं दी जा रही है।

माकपा सदस्य से कहा कि भारत सरकार को पूरे साहस से साथ अमेरिका से मांग करनी चाहिए कि हेडली से पूछताछ की भारतीय खुफिया एजेंसियों को अनुमति दी जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'हेडली से पूछताछ की अनुमति मिले'