अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सैफ खिताब पर भारतीयों का कब्जा

सैफ खिताब पर भारतीयों का कब्जा

भारतीय फुटबाल टीम ने रविवार को पेनाल्टी शूट आउट में मालदीव को 3-1 से हराकर सैफ चैंपियनशिप में पांचवीं बार खिताब जीतकर पिछली बार फाइनल में मिली हार का बदला भी चुकता कर दिया। मैच के निर्धारित और अतिरिक्त समय में कोई गोल नहीं हुआ जिसके बाद पेनाल्टी शूट आउट का सहारा लिया गया। भारत ने इस टूर्नामेंट में अपनी अंडर 23 टीम उतारी थी।

भारत की तरफ से जिबोन सिंह, डेंजिल फ्रांको और सुबोध कुमार ने गोल किए जबकि निर्मल छेत्री चूक गए थे। मालदीव की तरफ से केवल फजील इब्राहीम ही गोल कर पाए जबकि अहमद तोरिक, मुख्तार नसीर और स्टार स्ट्राइकर अली असफाक गोल करने में असफल रहे।

इस जीत से 50 हजार डालर हासिल करने वाले भारत ने इससे पहले 1993, 1997, 1999 और 2005 में यह क्षेत्रीय टूर्नामेंट जीता था। कोच सुखविंदर सिंह की भारतीय टीम ने ग्रुप मैच में अच्छा खेल नहीं दिखाया था और उसे मालदीव से 0-2 से हार झेलनी पड़ी थी लेकिन आज उसका प्रदर्शन काफी अच्छा रहा। भारत की युवा टीम इसलिए भी तारीफ के काबिल है क्योंकि पिछले साल बाईचुंग भूटिया की अगुवाई वाली सीनियर टीम फाइनल में मालदीव से 0-1 से हार गई थी। मैच में तीन भारतीय खिलाड़ी बलदीप सिंह, बलवंत सिंह और ज्वेल राजा विरोधी खिलाड़ियों से टकराने से चोटिल भी हुए।

भारतीय मिडफील्डर ज्वेल राजा 62वें मिनट में मोहम्मद आरिफ से टकरा गए जिससे उन्हें अस्पताल ले जाया गया। दोनों मिडफील्डर मैदान पर गिरे लेकिन भारतीय के सिर के पीछे चोट लगी थी। राजा को तुरंत अस्पताल ले जाया गया। उनकी स्थिति गंभीर लग रही थी।

मैच में अंतिम क्षणों और अतिरिक्त समय को छोड़कर अधिकतर समय तेजी देखने को नहीं मिली। अतिरिक्त समय के पहले 15 मिनट में मालदीव का दबदबा रहा तथा अशफाक काफी करीब से गोल करने से चूक गए। पांच मिनट बाद अहमद तोरिक ने एक और मौका गंवाया।

भारत 17वें मिनट में गोल करने के करीब पहुंचा लेकिन जिब्बोन सिंह के नीचे पास पर कप्तान सुशील सिंह गोल नहीं कर पाए। इसके पांच मिनट बाद सुशील ने फिर से मौका गंवाया। जहां तक निर्धारित समय के पहले हाफ का सवाल है तो दोनों टीमों के पास गोल करने के अधिक मौके नहीं थे। मालदीव ने छोटे-छोटे पास से आक्रमण किया। वह दूसरे हाफ के शुरुआती क्षणों में हावी होने में सफल रहा लेकिन मौका भारत को मिला जिसे 55वें मिनट में बलवंत सिंह ने गंवा दिया।

सुशील को 78वें मिनट में गोल करने का सुनहरा मौका मिला लेकिन उनका हेडर कुछ इंच की दूरी से गोल से बाहर चला गया। मालदीव ने अंतिम दस मिनट में गोल करने की काफी कोशिश की लेकिन भारतीय गोलकीपर अरिंदम भट्टाचार्य ने दो अच्छे बचाव किए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सैफ खिताब पर भारतीयों का कब्जा