class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

91 प्राथमिक शिक्षकों पर होगी कार्रवाई


राज्य सरकार 91 वैसे शिक्षकों पर कार्रवाई करेगी जिन्होंने दक्षता परीक्षा में गड़बड़ी की थी। शुक्रवार को ही पेंडिंग रिजल्ट आने के साथ इनका मामला प्रकाश में आया। मानव संसाधन विकास विभाग के मंत्री हरिनारायण सिंह ने उसी दिन साफ कर दिया था कि 91 शिक्षकों की दो-दो उत्तर पुस्तिकाएं मिली हैं।

ऐसा कैसे हो गया यह परीक्षा का संचालन करने वाले एससीईआरटी और मानव संसाधन विकास विभाग को भी समझ में नहीं आ रहा है। मंत्री ने तत्काल इस मामले की जांच का आदेश दे दिया था। विश्वस्त सूत्रों की मानें तो जांच शुरू हो गयी है और बच्चों के जीवन की दिशा तय करने वाले इन शिक्षकों की इस गड़बड़ी को बर्दाश्त करने के मूड में एचआरडी नहीं है।

राज्य के करीब 85 हजार प्राथमिक शिक्षकों की दक्षता परीक्षा 15 अक्टूबर को मानव संसाधन विकास विभाग ने ली थी। हालांकि परीक्षा में बैठने के लिए 1 लाख 2 हजार प्राथमिक शिक्षकों ने आवेदन दिया था। पर बाद में कुछ शिक्षक तीन साल नौकरी कर लेने के बाद पात्रता की परीक्षा में बैठने के खिलाफ होकर हाई कोर्ट की शरण में गये।

कोर्ट ने भी सरकार की इस परीक्षा को अनुचित नहीं ठहराया बावजूद इसके 16 हजार 68 शिक्षकों ने दक्षता परीक्षा का बहिष्कार कर दिया। अररिया, बांका, भागलपुर, किशनगंज, मधेपुरा, मुंगेर, सहरसा और सुपौल में परीक्षा का बहिष्कार हुआ था। कई जगह तोड़-फोड़ और हंगामे हुए। तब एचआरडी ने इनके नियोजन को रद्द करने तक की बात कह डाली थी।

पर शिक्षा मेला में मुख्यमंत्री के बयान के बाद एचआडी इनको लेकर इतना ढीला हुआ कि परीक्षा बहिष्कार के दो माह बीतने के बाद भी इन पर कार्रवाई तय नहीं हो पाई है। वैसे शिक्षा मंत्री हरिनारायण सिंह और प्रधान सचिव अंजनी कुमार सिंह भी बातचीत में यह संकेत दे चुके हैं कि इन पर कोई कड़ी कार्रवाई नहीं होगी।

लेकिन 16 हजार 68 शिक्षकों की तो जान अटकी हुई है कि आखिर उन पर क्या कार्रवाई होगी। एक बात तो तय है कि अगली दक्षता परीक्षा में बैठने और पास करने का एक मौका सरकार उन्हें जरूर देगी। फिलहाल इन्क्रीमेंट से तो वे वंचित रहेंगे ही।

विभाग की मानें तो कुल 85 हजार 500 प्राथमिक शिक्षक दक्षता परीक्षा में बैठे। 9 नवम्बर और 11 दिसम्बर को विभाग द्वारा जारी परिणामों को मिलाकर फेल होने वाले केवल 823 प्राथमिक शिक्षक वेतन वृद्धि से वंचित रह जाएगें।

शेष शिक्षकों में ट्रेंड शिक्षकों को 500 और अनट्रेंड शिक्षकों को 300 रुपए की वृद्धि दे दी गयी है। सरकार के चर साल पूरे होने पर मुख्यमंत्री ने एक हजार की वेतन वृद्धि का तोहफा इन्हें दिया वह अलग।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:91 प्राथमिक शिक्षकों पर होगी कार्रवाई