class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विक्रम बुद्धि खुद पैरवी करने उतरे, सुनवाई एक दिन बढी़

विक्रम बुद्धि खुद पैरवी करने उतरे, सुनवाई एक दिन बढी़

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यू बुश को मोबाइल पर धमकी भरे संदेश भेजने के आरोपी भारतीय मूल के इंजीनियर विक्रम बुद्धि के खिलाफ यहां की एक अदालत में चल रहे मुकदमें में नया मोड़ आ गया है। उन्हें कल सजा सुनाई जानी थी लेकिन अदालत ने बुद्धि की जिरह सुनने के बाद सजा सुनाने से पहले कुछ और कानूनी पहलुओं पर विचार करने की बात कह कर सुनवाई एक दिन के लिए स्थापित कर दी।

आईआईटी के विद्यार्थी रहे 38 वर्षीय बुद्धि वर्ष 2006 से जेल में कैद हैं। उन पर तत्कालीन राष्ट्रपति बुश, उपराष्ट्रपति डिक चेनी और उनकी पत्नियों को धमकी देने और अमेरिकी आधारभूत ढांचे पर बम हमले का आह्वान करने का आरोप है।

इंडियाना प्रांत एक अदालत में शनिवार को उनके खिलाफ सजा सुनाई जानी थी लेकिन वरिष्ठ न्यायाधीश जेम्स टी मूडी ने सात घंटे तक जिरह के बाद यह कहते हुए सुनवाई स्थागित कर दी कि अभी कुछ और कानूनी पहलूओं को सुलझाया जाना होगा।

परहुए विश्वविद्यालय में पीएचडी के विद्यार्थी बुद्धि ने सुनवाई के दौरान अपने वकील को हटा कर खुद पैरवी की। इससे पहले उन्होंने अदालत से कहा कि वह अपने प्रथम अधिवक्ता अर्लिगंटन फोले को हटाकर खुद पैरवी करना चाहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विक्रम बुद्धि खुद पैरवी करने उतरे, सुनवाई एक दिन बढी़