class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पांच साल में 11 से 57 लाख पर पहुंचे भोक्ता

विधायक बनिए और जनता की सेवा कीजिए। लेकिन इसके एवज में मेवा भी पाइए। जी हां, ऐसा ही होता है। बगैर मेवा के सेवा क्या? अब इनकी देखिए, पांच साल पहले विधायक बनने के समय भाजपा के सत्यानंद भोक्ता के पास मात्र 11 लाख 90 हजार 372 रुपए की संपत्ति थी।

लेकिन चार साल में कितना कुछ बदल गया। भोक्ता जी ने इस बार नामांकन दाखिल करने के वक्त अपने शपथ पत्र में जितनी संपत्ति का ब्योरा दिया है वह बढ़कर 57 लाख 59 हजार रुपए की हो गयी। यानी चार साल में 45 लाख 68 हजार का इजाफा। भोक्ता चतरा से जीतकर पहुंचे थे। इस बार सिमरिया से लड़ रहे हैं।

अन्य माननीय भी पीछे कहां रहते। राजद के प्रकाश राम को लीजिए। लातेहार से जीतकर गए थे। उस समय (2004 में)  13 लाख 51 हजार की संपत्ति थी। पांच साल में दुगुनी हो गयी। बढ़कर 26 लाख 84 हजार हो गयी। राजद के ही गिरिनाथ सिंह के पास 2004 में 68 लाख 80 हजार रुपए से ज्यादा की संपत्ति थी।

2009 में उन्होंने अपनी संपत्ति एक करोड़ 14 लाख 92 हजार रुपए बतायी है। गिरिनाथ सिंह गढ़वा से फिर अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। राजद के तीसरे उम्मीदवार हैं रामचंद्र सिंह। मनिका से जीतकर आए थे। 2004 में चार लाख 95 हजार की संपत्ति थी। इस बार उनकी संपत्ति पांच लाख 21 हजार हो गयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पांच साल में 11 से 57 लाख पर पहुंचे भोक्ता