अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अलग विदर्भ की मांग ने जोर पकड़ा

आंध्र प्रदेश में चल रही राजनीतिक गतिविधियों को देखते हुए अलग विदर्भ राज्य की मांग भी जोर पकड़ने लगी है। रविवार को वरिष्ठ कांग्रेसी सांसद विलास मुत्तमवार ने मौके को देखते हुए प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर अलग विदर्भ राज्य के गठन की जरूरत को दुहराया है।

उन्होंने कहा कि नेतृत्व का एक तबका बंटवारे की मांग की मुखालफत कर रहा है लेकिन किसी ने इस बारे में सोचा है कि वर्ष 2004 से विदर्भ में सात हजार किसान आत्महत्या कर चुके हैं। मुत्तमवार ने कहा कि इस इलाके का पिछड़ेपन राज्य के विकास में बाधा डाल रहा है।

मराठी भाषा के नाम पर विदर्भ के लोगों को भावनात्मक रूप से ब्लैकमेल करने का शिवसेना पर आरोप लगाते हुए मुत्तमवार ने कहा कि विदर्भ बुनियादी रूप से हिंदी पट्टी का इलाका है। तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित नेहरु द्वारा केंद्रीय प्रांत और बेरार के लोगों से महाराष्ट्र में शामिल होने की अपील करने पर इसका विलय राज्य में कर दिया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अलग विदर्भ की मांग ने जोर पकड़ा