class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिसाइल धनुष ने सफलतापूर्वक भेदा निशाना

मिसाइल धनुष ने सफलतापूर्वक भेदा निशाना

भारत ने रविवार को उड़ीसा के तट के नजदीक बंगाल की खाड़ी में मिसाइल पृथ्वी के नौसैन्य संस्करण 350 किलोमीटर की मारक क्षमता से युक्त और परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम बैलिस्टिक मिसाइल धनुष का सफल परीक्षण किया।

रक्षा अधिकारियों ने बताया कि परीक्षण के लिए इस एकल चरण पोत आधारित मिसाइल का प्रक्षेपण सुबह 11 बजकर 31 मिनट पर यहां से निकट स्थित चांदीपुर में समेकित परीक्षण रेंज (आईटीआर) से 35 किलोमीटर दूर समुद्र में आईएनएस सुभद्रा से किया गया।

परीक्षण को सफल करार देते हुए आईटीआर निदेशक एसपी दास ने कहा कि इसने मिशन के सभी उद्देश्य पूरे किए हैं और इसमें हुई सभी घटनाएं अपेक्षानुरूप हुईं और सेंसरों की सीरीज के जरिए इसकी निगरानी की गई। उन्होंने कहा कि यह अद्भूत मिशन सफल हो गया।

धनुष मिसाइल अपने साथ 500 किलोग्राम तक का भार ले जा सकती है और यह पारंपरिक तथा परमाणु दोनों तरह के आयुध ले जाने में सक्षम है। अधिकारियों के अनुसार तरल ईंधन वाली यह मिसाइल देश में ही निर्मित सतह से सतह पर मार करने वाली पृथ्वी मिसाइल प्रणाली का नौसैन्य संस्करण है।

एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की ओर से विकसित धनुष मिसाइल का नौसेना ने प्रायोगिक परीक्षण किया। सूत्रों ने बताया कि आज के प्रायोगिक परीक्षण पर अत्याधुनिक राडारों तथा इलेक्ट्रो़-ऑप्टिक उपकरणों से नजर रखी गई ताकि बाद में आंकड़ों का अध्ययन किया जा सके।

डीआरडीओ के मुताबिक, मिशन के दौरान रक्षा मंत्री एके एंटनी के वैज्ञानिक सलाहकार वीके सारस्वत पोत पर मौजूद थे। 11 अप्रैल, 2000 को कुछ तकनीकी खामियों के चलते इस मिसाइल का पहला परीक्षण कामयाब नहीं रहा था, लेकिन बाद के प्रयोग सफल रहे। आज से पहले धनुष का सफल परीक्षण 30 मार्च, 2007 को उड़ीसा तट से नौसेना के एक जहाज से किया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मिसाइल धनुष ने सफलतापूर्वक भेदा निशाना