अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रणव के यूटर्न से भड़के माओवादी

प्रणव के यूटर्न से भड़के माओवादी

केंद्रीय गृह मंत्री पी. चिदंबरम द्वारा तेलांगना को अलग राज्य का दर्जा देने की घोषणा करने के बाद केंद्रीय वित्तमंत्री प्रणव मुखर्जी ने छोटे-छोटे राज्य बनाने से इंकार किया है।

दूसरी ओर प्रतिबंधित सीपीआई (माओवादी) के पोलित ब्यूरो सदस्य किसनजी ने तेलांगना के साथ ही गोरखालैंड का समर्थन किया है। उन्होंने कांग्रेस पर वादे से मुकरने का आरोप भी लगाया। तेलांगना को अलग राज्य की संसद में स्वीकृति मिलने से एक साथ कई दूसरे नए राज्यों की मांग को प्रणव मुखर्जी ने खारिज कर दिया। शनिवार को कोलकाता से 40 किलो मीटर दूर उत्तर 24 परगना जिले के बारासात में एक अस्पाताल का उद्घाटन करने के बाद उन्होंने कहा कि तेलांगना राज्य बनाने की मांग 60 वर्ष पुरानी है।

कई छोटे-छोटे राज्य बनाने की भी मांग उठ रही हैं। इसका अर्थ यह कतई नहीं कि सबको नया राज्य बना दिया जाएगा। मुखर्जी ने पश्चिम बंगाल को विभाजित कर गोरखालैंड को अलग राज्य बनाने को भी खारिज कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रणव के यूटर्न से भड़के माओवादी