class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर किया भ्रष्टाचार तो पड़ोगे बीमार

झूठ बोले कौआ काटे वाली बात पुरानी हो गई है। झूठ बोलने वालों क रंग काला हो सकता है। चंडीगढ़ के पीजीआई के डॉक्टर कहते हैं कि जो लोग भ्रष्टाचार करते हैं और अपराध में शामिल होते हैं उनको दिल के दौरे पड़ सकते हैं और कैंसर जैसी बीमारियां उन्हें हो सकती हैं।

पीजीआई के कार्डियोलाजी विभाग के पूर्व अध्यक्ष व एडीशनल प्रोफेसर डॉक्टर यशपाल ने कई मरीजों पर शोध के बाद यह नतीजा निकाला है। उन्होंने कहा है कि जब कोई व्यक्ति ऐसा अपराध करता है तो उसके अंदर ग्लानि की भावना पैदा हो जाती है। इससे मानसिक तनाव पैदा होता है। यह तनाव उन हारमोंस के स्नव को गड़बड़ा देता है जो कि हायपोथेलेमस सेंटर के जरिए निकलते हैं।

कुछ हारमोंस कम हो जाते हैं तो कुछ ज्यादा। नतीजा यह होता है कि व्यक्ति का मनोबल कम हो जाता है। वह मानसिक रूप से परेशान रहता है। रक्त की सप्लाई भी अनियमित हो जाती है। रक्त की मांग बढ़ जाती है लेकिन सप्लाई कम हो जाती है और धड़कन भी बढ़ जाती है। इसलिए उनमें अचानक दिल के दौरे पड़ने की संभावना हो जाती है। अचानक मौत की संभावना बढ़ जाती है।    

डाक्टर यशपाल कहते हैं कि झूठ बोलने से रंग काला पड़ जाता है। इसका कारण यह है कि लोगों में हारमोन के स्नव की गड़बडी़ से त्वचा में मेलेनिन बढ़ जाता है। मेलेनिन बढ़ने से रक्त की सप्लाई कम हो जाती है और कालापन बढ़ जाता है। जल्दी झुर्रियां निकल आती हैं। बाल सफेद हो जाते हैं। इससे वायरल, बैक्टीरियल व अन्य तरह के पैरासिटिक इंफेक्शन की सभावना बढ़ जाती है। उन्होंने कहा कि यदि ये हारमोन जरूरत से ज्यादा निकलते हैं तो फिर इससे ये डीएनए के प्रोटीन पैटर्न को भी परिवर्तित करते हैं जो कि कैंसर वाले जीन को बना सकते हैं।   

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गर किया भ्रष्टाचार तो पड़ोगे बीमार