अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वीरू-युवी की बरसात में धुला श्रीलंका

वीरू-युवी की बरसात में धुला श्रीलंका

वीरू गरज रहे थे, धोनी बरस रहे थे और युवी तोड़ रहे थे। यह हाल था मोहाली में दूसरे 20-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच का जिसे भारत ने शनिवार को अपने इन तीन पराक्रमी बल्लेबाजों के तूफानी अंदाज में छह विकेट से जीतकर श्रीलंका के खिलाफ दो मैचों की सीरीज में 1-1 से हिसाब बराबर कर लिया।

भारत ने श्रीलंका के सात विकेट पर 206 रन के मजबूत स्कोर को वीरू, धोनी और युवी की कातिलाना बल्लेबाजी से कमजोर साबित कर दिया। भारत ने पांच गेंद शेष रहते चार विकेट पर 211 रन बनाकर जबर्दस्त जीत अपने नाम कर ली। भारत ने इस तरह अपने 20-20 के इतिहास में लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे बड़ी जीत हासिल कर ली।

सहवाग ने 36 गेंदों में सात चौके और तीन छक्के उड़ाते हुए 64 रन ठोके। यह उनका दूसरा 20-20 अर्धशतक
था जबकि कप्तान धोनी ने 20-20 में अपना सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाते हुए 28 गेंदों में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से 46 रन बना डाले।

बर्थडे ब्वाय युवराज ने खुद को जन्मदिन का बेहतरीन तोहफा देते हुए न केवल अपना पांचवां 20-20 अर्धशतक बनाया बल्कि भारत को सीरीज बराबरी की जीत भी दिला दी। युवराज ने मात्र 25 गेंदों में तीन चौके और पांच गगनचुंबी छक्के उड़ाते हुए नाबाद 60 रन बनाकर श्रीलंका को ध्वस्त कर डाला।

सहवाग और गंभीर (21) ने पहले विकेट के लिए छह ओवर में 58 रन जोड़े। इसके बाद सहवाग और धोनी ने दूसरे विकेट के लिए पांच ओवर में 50 रन की साझेदारी कर डाली। भारतीय पारी को असली मजबूती धोनी और युवी के बीच छह ओवर में 80 रन की तूफानी साझेदारी ने दी। इसी साझेदारी ने मैच का सारा रुख बदल डाला।

युवराज ने अपने घरेलू मैदान पर छक्कों की बौछार करते हुए श्रीलंका की 20-20 सीरीज जीतने की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। युवराज ने पारी के 16वें ओवर में नुवान कुलशेखरा की गेंदों पर दो छक्के और दो चौके उड़ाते हुए 23 रन बटोरकर भारत को जीत की राह पर डाल दिया।

हालांकि धोनी के बोल्ड होने के बाद सुरेश रैना (9) रन बनाकर रन आउट हो गए मगर क्रीज पर युवी की मौजूदगी से भारतीयों का हौसला बुलंद बना रहा और उन्होंने विजयी छक्का मारते हुए भारत को शानदार जीत दिला दी।

श्रीलंका की तरफ से कुलशेखरा ने चार ओवर में 50 रन लुटाए जबकि कौशल्या वीरारत्ने ने तीन ओवर में 43 रन दिए। एंजेलो मैथ्यूज के 3.1 ओवर में 49 रन पड़े। मैच का विजयी छक्का युवराज ने मैथ्यूज की गेंद पर ही ठोका। लसित मलिंगा और दिलहारा फर्नांडो को एक-एक विकेट मिला। 

इससे पहले कप्तान कुमार संगकारा (59) के लगातार दूसरे अर्धशतक और सनत जयसूर्या (31) व चिंतका जयसिंघे (38) की उपयोगी पारियों से श्रीलंका ने सात विकेट पर 206 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया।

श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और भारत के खराब क्षेत्ररक्षण और गेंदबाजी दोनों का भरपूर फायदा उठाया। भारतीय क्षेत्ररक्षकों ने नागपुर की कहानी मोहाली में भी दोहराते हुए पांच कैच टपकाए और गेंदबाजों ने 24 अतिरिक्त रन दे डाले। इनमें 17 तो वाइड गेंदें हैं। संगकारा ने अपनी तूफानी फार्म जारी रखते हुए सिर्फ 31 गेंदों में आठ चौकों और दो छक्कों की मदद से 59 रन ठोक डाले। जयसूर्या ने 21 गेंदों में पांच चौकों और एक छक्के की मदद से 31 रन और जयसिंघे ने 28 गेंदों में तीन चौकों और एक छक्के की मदद से 38 रन बनाए।

निचले क्रम में एंजेलो मैथ्यूज ने मात्र 13 गेंदों में एक चौका और दो छक्के उड़ाते हुए नाबाद 26 रन ठोक डाले। उन्होंने आशीष नेहरा की पारी की आखिरी गेंद पर छक्का उड़ाया। श्रीलंका ने हालांकि ओपनर तिलकरत्ने दिलशान को दूसरे ही ओवर में गंवा दिया था लेकिन इसके बाद जयसूर्या और संगकारा ने भारतीय गेंदबाजों की धज्जियां उड़ाते हुए आठवें ओवर तक स्कोर 91 रन तक पहुंचा दिया।

11वें ओवर तक श्रीलंका का स्कोर 121 रन पहुंच चुका था लेकिन इसी स्कोर पर युवराज सिंह ने संगकारा को आउट कर श्रीलंका की रनगति को कुछ हद तक थाम लिया। युवराज ने तीन ओवर में 23 रन पर तीन विकेट लेकर हालांकि श्रीलंका पर लगाम कसी लेकिन ईशांत शर्मा और नेहरा ने आखिरी ओवरों में दिशाविहीन गेंदबाजी करते हुए श्रीलंका को 200 के पार पहुंचने का मौका दे दिया।

नेहरा ने तीन ओवर में 44 रन लुटाए जबकि ईशांत ने चार ओवर में 42 रन पर दो विकेट लिए। यूसुफ पठान को 29 रन पर एक विकेट मिला। अपना पहला 20-20 खेल रहे सुदीप त्यागी ने दो ओवर में 21 रन दिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वीरू-युवी की बरसात में धुला श्रीलंका